अपराधियों को खुला छोड़कर ऐसे सोती है यूपी पुलिस: वीडियो वॉयरल!

एक तरफ प्रदेश में अपराध चरम सीमा पर है लेकिन पुलिस को इसकी परवाह नहीं है। शायद यही वजह है कि (baghpat Police) पुलिस अपराधियों को खुला छोड़ खुद चैन की नींद ले रही है। यह हम नहीं बल्कि तस्वीरें खुद इसकी गवाह हैं।

ये भी पढ़ें- लखनऊ के इन 10 ग्रामीणों को पीएम देंगे सर्टिफिकेट!

क्या है पूरा मामला

  • दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वॉयरल हो रहा है।
  • यह वीडियो बागपत कोतवाली का बताया जा रहा है।
  • वीडियो में दिखाई दे रही तस्वीरों में कुछ लोग पुलिस की हिरासत में हैं जो पुलिस स्टेशन के भीतर ही बैठे हैं।

ये भी पढ़ें- योग दिवस पर पीएम का आगमन, यूं रहेगा ट्रैफिक डायवजर्न!

  • बताया जा रहा है कि पुलिस ने इन्हें किसी आपराधिक मामले में गिरफ्तार किया।
  • अगर यह अपराधी हैं तो इनकी सुरक्षा में कोई पुलिसकर्मी नहीं लगा लगा है।
  • बल्कि एक पुलिसकर्मी खुद चैन की नींद ले रहा है।
  • अपनी शिकायत लेकर देर रात पहुंचे एक फरियादी ने यह नजारा देखा तो उसने यह वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वॉयरल कर दिया।

ये भी पढ़ें- सीबीआई कोर्ट में अधिकारी ने काटी हाथ की नसें, हड़कंप!

  • अब सवाल उठता है कि अगर इस दौरान यह अपराधी किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे बैठते तो इसका जिम्मेदार कौन होता।
  • हालांकि (baghpat Police) इतनी बड़ी लापरवाही के बाद भी पुलिस के जिम्मेदार अधिकारी इस मामले में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं।

ये भी पढ़ें- भाजपा ने की प्रधानमंत्री के भव्य स्वागत की तैयारी!

यूपी की जेलों से ऑपरेट हो रहे 178 नंबर!

यूपी की जेलों में बंद माफिया अपना जाल जेल के अंदर से ही बिछाए हुए हैं। जो इतनी सख्ती के बाद भी जेलों से (178 illegal mobile numbers) मोबाईल का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे पहले ही एडीजी कानून एवं व्यवस्था ने पिछली 8 जून को इस संबंध में सरकार को पत्र लिखकर मामले से अवगत भी कराया था। इस खबर को पिछली 14 जून को uttarpradesh.org ने ‘यूपी की जेलों में अब भी धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहे हैं मोबाइल!’ शीर्षक से प्रमुखता से प्रकाशित किया था। लेकिन अभी तक इस पर कोई ठोस एक्शन नहीं लिया गया है।

ये भी पढ़ें- यूपी की जेलों से ऑपरेट हो रहे 178 नंबर!

जेलों से संचालित हो रहा अपराध

  • जेलों के अंदर से अपराध संचालित हो रहा है।
  • यूपी की जेलों में बंद खूंखार माफिया इसका संचालन कर रहे हैं।
  • जेलों से मोबाईल के जरिये हो रही गतिविधियों की खबर उजागर होने के बाद एडीजी कानून एवं व्यवस्था ने सरकार को पत्र लिखा।

ये भी पढ़ें- वीडियो: खुद को ठगा महसूस कर रहे अंसल एपीआई में रहने वाले!

  • पत्र में कहा गया कि जेलों में इंटरनेट के जरिये गैर कानूनी गतिविधियां हो रही हैं।
  • उन्होंने पत्र में कहा कि जेलों में दागी जेल अधीक्षकों के संगठित गठजोड़ के जरिये यह अपराध संचालित किया जा रहा है।
  • इस संबंध में डीजीपी कार्यालय से भी कई बार शासन को पत्र भेजे जा चुके हैं।
  • लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है।

ये भी पढ़ें- बिना जैमर वाली जेलों में भेजे गए बाहुबली

300 मोबाईल सर्विलांस पर

  • पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सुरक्षा एजेंसियों ने करीब 300 मोबाईल नंबर सर्विलांस पर लिए हैं।
  • इसकी गृह विभाग से अनुमति ली गई थी।
  • इनमें से 178 मोबाईल यूपी की जेलों से ऑपरेट हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें- यूपी की जेलों में अब भी धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहे हैं मोबाइल!

बाहुबली बिना जैमर वाली जेल में शिफ्ट

  • अगर बात करें बाहुबली मुख्तार अंसारी की तो वह अभी तक लखनऊ जेल में बंद थे यहां जैमर लगा हुआ है।
  • अब उन्हें बांदा जेल भेजा गया है इस जेल में जैमर स्थापित होने में अभी तीन-चार महीने का और समय लग सकता है।
  • इसी तरह अतीक अहमद को इलाहाबाद के नैनी जेल से देवरिया भेजा गया वहां अभी जैमर नहीं लगा है।

ये भी पढ़ें- वीडियो: सर्किट हाउस बना शराबियों का अड्डा!

  • इस जेल का तो अगली सूची में नाम तक नहीं है।
  • मुख्तार के दोनों शूटरों को भी बिना जैमर वाली जेल में रखा गया है।
  • ऐसे में सवाल उठा रहा है कि जेल बदलकर इन अपराधियों को सजा दी गई है या फिर उन्हें फायदा पहुंचाया गया है।
  • अधिकारियों का कहना है कि जिन जेलों में अपराधियों को स्थांतरित किया गया वहां असुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं मिल सकता।

ये भी पढ़ें- वीडियो: वेतन ना मिलने पर नगर निगम जोन 3 में हंगामा!

इन एक दर्जन जेलों में लगे जैमर

  • एडीजी जेल जेएल मीणा के अनुसार यूपी में एक आदर्श कारागार और पांच केंद्रीय कारागार सहित कुल 70 कारागार हैं।
  • मोबाइल का इस्तेमाल रोकने के लिए 12 जेलों में जैमर की व्यवस्था की गई है।
  • इनमें मुजफ्फरनगर, वाराणसी, मिर्जापुर, सुल्तानपुर, आगरा, मेरठ, गाजियाबाद, लखनऊ, गौतमबुद्ध नगर, नैनी, इलाहाबाद, प्रतापगढ़ और गोरखपुर जेल शामिल हैं।

ये भी पढ़ें- वीडियो: गायत्री के अवैध आशियाने पर चला एलडीए का बुलडोजर!

इन जेलों में चल रहा जैमर लगाने का काम

  • एडीजी जेल के अनुसार यूपी की अन्य 12 जेलों में जैमर लगाने का काम चल रहा है। इनमें जिला कारागार अलीगढ़, एटा, मुरादाबाद, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, इटावा, बांदा, मैनपुरी, झांसी, जौनपुर, बलिया और केंद्रीय कारागार बरेली शामिल हैं।

ये भी पढ़ें- बकाया फीस ना देने पर स्कूल प्रबंधक ने अभिभावक को पीटा!

4जी नेटवर्क पर जैमर बेअसर

  • विशेषज्ञों की माने तो 4जी नेटवर्क पर जैमर काम नहीं करता है।
  • जिन जिलों में जैमर लगाए गए हैं वहां भी कुछ खामियां सामने आईं हैं।
  • कई मोबाइल नेटवर्क पर जैमर का असर नहीं होता तो कुछ की फ्रीक्वेंसी अपराधियों की मिलीभगत से कम कर दी जाती है ताकि फोन का इस्तेमाल आसानी से हो सके।
  • लखनऊ जेल में इस तरह की शिकायत जेल अधिकारियों को मिली हैं इसके बाद जैमर की सुविधा उपलब्ध कराने वाली कंपनी को इसे दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें- विवाहिता को किया जलाकर मारने का प्रयास, केस दर्ज!

बिना जैमर की जेल में भेजे गए 28 अपराधी

  • पिछले दिनों में 30 अपराधियों की जेल बदल दी गई।
  • इनमें से ऐसे कई अपराधी हैं जिनको ऐसी जेल में लाया गया है जहां जैमर लगा है।
  • जफर अली को गोरखपुर जेल से मुजफ्फरनगर, ज्ञानी सिंह को बाराबंकी से मिर्जापुर भेजा गया है।
  • जबकि अन्य को बिना जैमर जेल भेजा गया है।
  • इनमें बसपा विधायक मुख्तार अंसारी, पूर्व सांसद अतीक अहमद, बसपा के पूर्व विधायक शेखर तिवारी, सपा के पूर्व विधायक उस्मानुल्लाह हक, कुख्यात अपराधी यूनुस काला, मनोज ओझा, कृष्णानंद सिंह आशुतोष सिंह समेत 28 अपराधी हैं।

ये भी पढ़ें- तस्वीरें: गमगीन माहौल में निकाला गया 21वीं रमजान का जुलूस!

जैमर के लिए स्वीकृत हुए 3.51 करोड़ रुपये

  • एडीजी जेल के अनुसार पिछली राज्य सरकार ने सौर संयंत्र, जैमर, सीसीटीवी कैमरे, वीडियो कॉन्फ्रेंस सिस्टम, दरवाजा फ्रेम डिटेक्टरों और अन्य सुरक्षा को मजबूत बनाने वाले उपकरणों की स्थापना के लिए 3.51 करोड़ रुपये स्वीकृत किए।
  • उन्होंने बताया कि पहले चरण में, मुजफ्फरनगर, आगरा, वाराणसी, मिर्जापुर, सुल्तानपुर, मेरठ और नोएडा की जेलें सौर ऊर्जा वाले जैमरों के साथ फिट होने का काम चल रहा है।
  • बाद में बरेली, गोरखपुर, नैनी, प्रतापगढ़, लखनऊ, अलीगढ़ और बुलंदशहर में जैमर लगाए जायेंगे।
  • उत्तर प्रदेश पुलिस के मुताबिक, बरेली में अधिकतम 41 जैमर, नैनी में 28, लखनऊ में 24, मेरठ में 15, अलीगढ़ में 12, एटा में 7 सात और आगरा में 6 जैमर लगने हैं।

ये भी पढ़ें- बलिया रिहाई मंच नेता मंगल राम पर जानलेवा हमला!

छेड़छाड़ के विरोध में बुरी तरह से पीटा, सीने पर दांत से काटा!

राजधानी के इंदिरानगर (indira nagar lucknow) इलाके में जेल से छूटकर आये एक दबंग ने युवती से छेड़छाड़ की। जब इसका युवती के जीजा ने विरोध किया तो दबंग ने उसे बुरी तरह से पीट दिया। इतना ही नहीं दबंग ने युवती के जीजा के सीने पर दांत से काटकर उसे घायल कर दिया। शोर शराबा सुनकर आसपास के लोग दबंग को पकड़ने दौड़े तो वह फरार हो गया। पुलिस ने पीड़ित की तहरीर पर शिकायत दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें-…तो क्या कहीं बाहर से हत्या करके फेंका गया था IAS अनुराग तिवारी का शव!

क्या है पूरा मामला

  • जानकारी के मुताबिक, इंदिरानगर (indira nagar lucknow) निवासी चंद्रशेखर ने बताया कि इंदिरानगर में ही उनकी शाली रहती है।
  • वर्ष 2016 में शाली की पड़ोसन रेखा कन्नौजिया ने अपने बच्चे का एडमिशन उनकी शाली के पास करा दिया।
  • इसके बाद रेखा का बेटा पीड़ित शंद्रशेखर की शाली के घर पढ़ने जाने लगा था।
  • बकौल चंद्रशेखर उनकी साली रीना (काल्पनिक नाम) बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती है।
  • 2016 में ही सेक्टर-10 निवासी व रेखा का पति दीप कन्नौजिया रात में शराब के नशे में धुत्त होकर कंचन के घर पहुंच गया।

ये भी पढ़ें-गोमतीनगर में रियल स्टेट कारोबारी के घर बंधक बनाकर लाखों की डकैती!

  • जैसे ही वह वॉशरूम से निकली थी कि शराबी दीप उससे छेड़खानी करने लगा।
  • इतना ही नहीं आरोपी ने उससे रेप का प्रयास किया।
  • पीड़ित ने बताया कि शराब का आदी दीप अक्सर कंचन से शारीरिक संबंध बनाने का दबाव डालता था।
  • जब दीप ने रीना को अकेला पाकर अपनी हवस मिटानी चाही तो उसने शोर मचा दिया।
  • इसके बाद मामला दर्ज हुआ और दीप जेल चला गया था।
  • पीड़ित ने बताया कि कुछ दिन बाद ही दीप छूटकर आ गया था।

ये भी पढ़ें-आईएएस अनुराग तिवारी केस में पुलिस ने किया क्राइम सीन का रिक्रिएशन!

  • शुक्रवार देर शाम पीड़ित अपने काम से जा रहा था कि रास्ते (indira nagar lucknow) में दीप ने उनकी बाइक में टक्कर मार दी और फिर उसकी पिटाई करने लगा।
  • बीच राह दबंग की दबंगई देख कुछ लोग आगे बढ़े तो दबंग पीड़ित के सीने पर दांत से काटकर उन्हें घायल कर दिया और फरार हो गया।
  • पीड़ित ने इंदिरानगर थाने में लिखित शिकायत की है जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी को हिरासत में ले लिया है।
  • वहीं पुलिस सूत्रों की माने तो थाने के एक दारोगा आरोपी की तरफदारी में लगकर उन्हें बचाने के प्रयास में लग गया।
  • यही नहीं बल्कि आरोपी को छोड़ने का सुविधा शुल्क भी ले लिया। वहीं इंद्रानगर थाना प्रभारी मुकुल वर्मा ने बताया कि मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।

ये भी पढ़ें-बीकेटी में सिपाही की पिटाई कर ग्रामीणों ने काटा बवाल!

महिलाओं की चेन-पर्स लूटने वाले 3 लुटेरे गिरफ्तार, 12 घटनाओं का खुलासा!

पूरे शहर में घूम-घूमकर लूट की घटनाओं को अंजाम देकर आतंक मचाने वाले तीन खूंखार लुटेरों को आशियाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लूट की घटनाओं का खुलासा करने का दावा किया है। घुमंतू गैंग के यह अपराधी अब तक कई वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। पुलिस को इनके पास से लूट का सामान भी बरामद हुआ है। पुलिस ने तीनों अभियुक्तों के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया है।

इनको पुलिस टीम ने किया गिरफ्तार

  • थाना प्रभारी आशियाना सत्येन्द्र कुमार राय ने बताया कि उप निरीक्षक विनोद कुमार सिंह, शहाबुद्धीन, कांस्टेबल विमल यादव, सुमित कुमार, प्रिन्स यादव की टीम ने तीन ऐसे अपराधियों को बंगला बाजार स्टैंड के पास से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है जो शहर भर में घूम-घूमकर राहगीरों के मोबाईल और महिलाओं की चेन एवं पर्स लूट की वारदातों को अंजाम देते थे।
  • पुलिस ने यह गिरफ्तारी पुलिस अधीक्षक मंजिल सैनी के नेतृत्व में चलाये जा रहे अभियान के तहत की गई है।
  • थाना प्रभारी ने बताया कि लूट की घटनाओं को अंजाम देने वाले शिवम राठौर निवासी 256/73 खजुआ बाजारखाला, विनीत मिश्रा निवासी रामबहादुरपुर थाना अटरिया सीतापुर हालपता- किराये का मकान खजुआ बाजारखाला और शिवम श्रीवास्तव उर्फ राजा निवासी 25 कुण्डरी रकाबगंज वजीरगंज को गिरफ्तार किया गया है।

गर्लफ्रेंड के लिए करते थे लूट

  • पकड़े गए आरोपियों ने बताया वह अपनी गर्लफ्रेंड के शौक को पूरा करने के लिए लूट की घटनाओं को अंजाम देते थे।
  • शिवम कक्षा 11 का छात्र है जबकि राजा हाई स्कूल का छात्र है वहीं विनीत मिश्रा प्राइवेट चालक है जो अनपढ़ है।
  • आरोपियों ने 11 अप्रैल को रिक्शे से जा रही महिला की चेन छीनी, एक फरवरी 2017 को सेक्टर-6 आशियाना में महिला के गले से चेन छीनी, 4 अप्रैल को किला चौराहे के पास महिला के गले से चेन लूटी।
  • 7 मार्च को सेक्टर-एल में पैदल जा रही महिला से चेन लूटी थी।
  • इसके अलावा आरोपियों ने पूछताछ के दौरान पॉलिटेक्निक, जानकीपुरम, भूतनाथ, केकेसी, चारबाग, आलमबाग आदि थाना क्षेत्रों में लूट की करीब 12 घटनाओं को अंजाम देने की बात कबूली है।
  • पकड़े गए आरोपियों के पास से लूट की दो टूटी चेन, 9 एन्ड्रावायड मोबाइल फोन तथा 2500 रुपया नकद बरामद हुआ है।
  • पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ कई थानों में आपराधिक मुकदमें भी दर्ज हैं।

उत्तर प्रदेश में 626 दागी पुलिसकर्मियों का तबादला, अपराधियों से थे संबंध!

भाजपा के सत्ता में आते ही प्रदेश में अपराधियों से ताल्लुक रखने वाले पुलिसकर्मी चिन्हित किये गए। उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देश पर अवांछनीय तत्वों से संबंध रखने वाले 626 दागी पुलिसकर्मियों का तबादला कर दिया गया है। इन पुलिसकर्मियों की सूची पिछले दिनों डीजीपी जावीद अहमद ने योगी सरकार के निर्देश पर तैयार करवाई थी।

पुलिस प्रवक्ता के अनुसार, पुलिस महानिदेशक के निर्देश पर विभिन्न जिलों में अवांछनीय तत्वों से संबंध रखने के आरोप में चिन्हित किए गये 626 पुलिसकर्मियों का दूसरे जिलों में तबादला कर दिया गया है। इन पुलिसकर्मियों को पिछले दिनों जोन के सभी आईजी से मांगी गई थी।

आईजी से मिली रिपोर्ट के आधार पर इन पुलिसकर्मियों का स्थान्तरण कर दिया गया गया है। उन्होंने बताया कि जिन थानों पर लम्बे समय से सिपाही जमे बैठे हैं उनकी भी सूची तैयार की जा रही है और इन्हें भी जल्द ही दूसरे जिले में स्थान्तरित कर दिया जायेगा।

छठे चरण में सबसे ज्यादा कर्जदार BSP प्रत्याशी मुख्तार अंसारी!

1

छठे चरण में चुनाव लड़ रहे 17 फीसदी प्रत्याशियों पर हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण सपा के गंभीर मामले दर्ज हैं।

  • लेकिन इनमें कुछ कर्जदार प्रत्याशी भी चुनावी मैदान में हैं।
  • उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच और असोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) ने उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव को लेकर चल रहे चुनावी महासंग्राम के दौरान नेताओं का काला चिट्ठा बुधवार को यूपी प्रेस क्लब में पेश किया।
  • इन दागी नेताओं के कई मंत्रियों के ऊपर आपराधिक मुकदमें दर्ज हैं।
  • कई मंत्रियों के ऊपर हत्या और हत्या के प्रयास जैसे गंभीर केस दर्ज हैं।
  • जबकि कई मंत्रियों पर हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण और सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने जैसे अपराध शामिल हैं।
  • चुनाव आते ही विभिन्न दलों में प्रत्याशियों को चुनने की होड़ सी लग जाती है।
  • ऐसे में सियासी दल अपने फायदे के लिए दागी तथा अपराधिक पृष्ठभूमि के उम्मीदवारों का चयन करने में गूरेज नहीं करती हैं।
  • लेकिन इलेक्शन वाच द्वारा निरन्तर चलायी जा रही जागरूकता के कारण इस बार अपराधिक पृष्ठभूमि वाले प्रत्याशियों के खिलाफ रिपोर्ट पेश कर इनके कारनामे उजागर कर रहा है।

मुख्तार अंसारी पर सबसे ज्यादा कर्ज

  • मऊ के बसपा प्रत्याशी मुख्तार अंसारी पर सबसे ज्यादा 6 करोड़ का तो मुबारकपुर के बसपा प्रत्याशी गुड्डू जमाली पर 2 करोड़ का कर्ज है।
  • जहां तक शैक्षिक योग्यता का सवाल है तो छठे चरण में मैदान में उतरे 53 फीसदी प्रत्याशी स्नातक या इससे ऊपर की शिक्षा प्राप्त है।
  • इस चरण में भी बड़ी तादाद में युवा प्रत्याशी मैदान में हैं।
  • छठे चरण का चुनाव लड़ रहे सभी प्रत्याशियों में 67 फीसदी की आयु 25 से 50 साल के बीच है।

चुनावी मैदान में 635 प्रत्याशी

  • उतर विधनासभा के छठे चरण के प्रत्याशियों के आपराधिक, आर्थिक व शैक्षणिक रिकार्ड की विस्तृत समीक्षा प्रदेश के बाद एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) व यूपी इलेक्शन वॉच ने जो रिपोर्ट जारी की है।
  • उसके मुताबिक बड़े पैमाने पर बाहुबली व धनबली चुनाव मैदान में ताल ठोंक रहे हैं।
  • एडीआर ने छठे चरण में नामांकन करने वाले सभी 635 प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल करते समय दिए गए शपथपत्रों के आकलन के बाद यह रिपोर्ट तैयार की है।
1

छठे चरण में भाजपा के 73, बसपा 71, सपा के 70 फीसदी करोड़पति प्रत्याशी!

छठे चरण में सबसे ज्यादा 73 फीसदी करोड़पति प्रत्याशी भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। बसपा ने 71 फीसदी तो सपा ने 70 फीसदी करोड़पतियों को मैदान में उतारा है।

औसत संपति 1.59 करोड़ रुपये

  • छठे चरण के उम्मीदवारों की औसत संपति 1.59 करोड़ रुपये है।
  • इस चरण में भी महिला प्रत्याशियों की तादाद दहाई में नहीं पहुंची है।
  • छठे चरण में महज 9 फीसदी महिला प्रत्याशी मैदान में हैं।
  • छठे चरण में उत्तर प्रदेश के सात जिलों आजमगढ़, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, कुशीनगर, महराजगंज और मऊ की 49 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है।

टॉप 3 करोड़पतियों में बसपा प्रत्याशी

  • करोड़पतियों को टिकट देने के मामले में भाजपा अव्वल रही है।
  • हालांकि बसपा व सपा भी उससे ज्यादा पीछे नहीं रुप चरण के प्रत्याशियों में टॉप तीन अमीर बसपा के टिकट पर ही लड़ रहे हैं।
  • नामांकन के समय दिए गए शपथपत्र के मुताबिक, छठे चरण के सभी प्रत्याशियों में सबसे अमीर आजमगढ़ की मुबारकपुर से बसपा के शाह आलम उर्फ गुड्इ जमाली 118 करोड़ रुपये की संपति के साथ हैं।
  • जबकि चिल्लूपार से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे विनयशंकर तिवारी के पास कुल 67 करोड़ की संपति है।
  • तीसरे सबसे आमिर प्रत्याशी नौतनवां, महराजगंज के बसपा प्रत्याशी एजाज अहमद हैं।
  • जिनकी कुल संपती 52 करोड़ रुपये है।

छठे चरण के चुनाव में 20 प्रतिशत अपराधी, बसपा में सबसे ज्यादा!

1

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में राजनैतिक दलों का अपराधियों और करोड़पतियों से प्रेम कम राजनैतिक दलों ने आपराधिक रिकार्ड रखने वाले प्रत्याशियों को टिकट दिया है।

  • छठे चरण में विभिन्न राजनैतिक दलों से 20 फीसदी अपराधी तो 25 फीसदी करोड़पतियों को चुनाव मैदान में उतारा है।
  • अब तक हुए पांच चरणों के चुनावों का औसत खासा ज्यादा है।
  • अपराधियों को टिकट देने के मामले में इस चरण में बसपा 49 फीसदी के साथ सबसे आगे है जबकि भाजपा 40 फीसदी के साथ दूसरे नंबर पर है।
  • छठे चरण में 28 फीसदी दागी सपा के टिकट से तो 20 फीसदी कांग्रेस की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं।

बसपा 41 फीसदी अपराधियों को दिया टिकट

  • उतर विधनासभा के छठे चरण के प्रत्याशियों के आपराधिक, आर्थिक व शैक्षणिक रिकार्ड की विस्तृत समीक्षा प्रदेश के बाद एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) व यूपी इलेक्शन वॉच ने जो रिपोर्ट जारी की है।
  • उसके मुताबिक बड़े पैमाने पर बाहुबली व धनबली चुनाव मैदान में ताल ठोंक रहे हैं।
  • एडीआर ने छठे चरण में नामांकन करने वाले सभी 635 प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल करते समय दिए गए शपथपत्रों के आकलन के बाद यह रिपोर्ट तैयार की है।
  • एडीआर की रिपोर्ट जारी करते हुए प्रदेश कोर कमेटी के सदस्य डॉ. अजय प्रकाश व समन्वयक अनिल शर्मा ने बताया कि गंभीर अपराधियों को टिकट देने के मामले में बसपा 41 फीसदी के साथ सबसे आगे है।
1

विकास के पथ पर प्रदेश को आगे ले जाना है: डॉ. भदौरिया!

विधानसभा 173 लखनऊ पूर्वी से कांग्रेस-सपा गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी डॉ. अनुराग सिंह भदौरिया ने आज रविवार को भी अपना प्रचार अभियान जारी रखा।

  • इस क्रम में डॉ. भदौरिया ने मेहंदी टोला में नुक्कड़ सभा करके गठबंधन का एजेंडा बताते हुए लोगो से हाथ का पंजा वाला बटन दबाकर विजयी बनाने की अपील की।
  • इसके बाद आईआईएम से प्रबंधन की डिग्री धारी इस युवा ने पेपर मिल कॉलोनी,
  • न्यू हैदराबाद, कल्यानपुर, शंकर पूर्वा व इंदिरा नगर में पैदल जनसपंर्क करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने नोट बंदी से जनता को बेहाल किया है और आप इस चुनाव में वोट देते हुए इस बात का जरूर ध्यान रखे।
  • वहीं विहार कॉलोनी में डॉ. भदौरिया ने साइकिल से प्रचार किया और कहा कि अगर प्रदेश को विकास के रास्ते पर आगे बढ़ाते रहना है तो इस चुनाव में सपा कांग्रेस गठबंधन की सरकार भारी बहुमत से बनवाना जरूरी है।