धर्मेंद्र सोती ने वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में जीता कांस्य पदक!

1

राजधानी लखनऊ के धर्मेंद्र सोती ने स्पेन के शहर मलेगा में गत 25 जून से दो जुलाई तक हुए 21वें वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स (badminton singles) में भारत का प्रतिनिधत्व करते हुए बैडमिंटन की एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर देश का परचम लहराया है।

वीडियो: चारबाग रेलवे स्टेशन पर फर्जी टीटीई गिरफ्तार!

  • इन गेम्स में पुरुष एकल में द्वितीय वरीयता प्राप्त धर्मेंद्र सोती को पहले दौर में बाई मिली थी।
  • दूसरे दौर में उन्होंने फ्रांस के प्रतिद्वंद्वी को हराया।
  • सेमीफाइनल में वह इंग्लैंड के शिम एंडरसन से हार गया।
  • इस स्पर्धा में दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सन ने खिताब पर कब्जा जमाया।

नशे में धुत सिपाही ने हवाई फायरिंग कर फैलाई दहशत!

किडनी, फेफड़ा आदि का हुआ प्रत्यारोपण

  • केंद्रीय नारकोटिक्स ब्यूरो बाराबंकी में डिप्टी एसपी धर्मेंद्र सोती ने इससे पूर्व अर्जेंटीना मेें 2015 में हुई ट्रांसप्लांट गेम्स में भारत के लिए बैडमिंटन युगल में स्वर्ण व एकल में रजत पदक दिलाया था।
  • धर्मेंद्र ने इससे पूर्व 2013 में डरबन (दक्षिण अफ्रीका) में हुए ट्रांसप्लांट गेम्स में रजत पदक जीता था।
  • वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स हर दो साल के अंतराल पर विभिन्न देशों में होते है।
  • इन खेलों में वही लोग भाग ले सकते हैं जिनके शरीर के किसी न किसी हिस्से जैसे किडनी, फेफड़ा आदि का प्रत्यारोपण हुआ है।
  • धर्मेंद्र सोती ने इन खेलों में कई पदक जीतकर विश्व में भारत की नई पहचान बनाई हैं।
  • धर्मेन्द्र सोती का 2001 में एसजीपीजीआई में गुर्दा प्रत्यारोपण हुआ था।
  • उनके छोटे भाई अवधेश सोती ने अपनी एक किडनी देकर उनके जीवन को बचाया था।

सेवानिवृत्त फौजी की बेटी लापता, हाइवे पर हंगामा!

सिविल सर्विसेज टूर्नामेंट में जीता था पदक

  • किडनी ट्रांसप्लांट से पहले धर्मेंद्र सोती ने उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधत्व करते हुए राष्ट्रीय स्तर पर कई खिताब जीते थे।
  • सन् 1987 सेे बैडमिंटन की शु्रुआत करने वाले धर्मेेंद्र ने 1987 में स्कूल नेशनल गेम्स व 2001 में सिविल सर्विसेज टूर्नामेंट में पदक जीता था।
  • धर्मेंद्र ने 1997 में नारकोटिक्स ब्यूरो में कार्यभार ग्रहण किया था।
  • सोती ने जीत का श्रेय अपने भाई को दिया और कहा कि मुझे मेरे भाई ने जिन्दगी दी है जिसकी बदौलत मैं इस मुकाम तक पहुंचा हूं।
  • अगर मेरे भाई ने मुझे (badminton singles) किडनी नहीं दी होती तो मैं इस दुनिया में पदकों की सफलता की चमक नहीं बिखेर पाता।

वीडियो: कारखाने में अर्धनग्न मिला युवक का शव, हड़कंप!

1

कांग्रेस की बदहाली बयां कर रहा टेप लगा यह शिलापट!

यूपी चुनाव में मिली करारी हाल के बाद कांग्रेस (Congress office) इतनी कंगाल हो गई है कि उसके पास शिलापट लगाने के लिए भी पैसे नहीं हैं। यह हम नहीं कह रहे बल्कि कांग्रेस कार्यालय में टेप के सहारे लगा हुआ यह शिलापट खुद अपनी बदहाली की कहानी कह रहा है।

ये भी पढ़ें- अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2017: लखनऊ में एक साथ 50 हजार लोग करेंगे योग!

कहां लगा है शिलापट?

  • दरअसल कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय (Congress office) के भीतर प्रवेश करने पर आप को नए मीडिया सेंटर के बाहर शिलापट दिख जायेगा।
  • यह शिलापट अपनी बदहाली के आंसू रो रहा है।
  • परंतु इस और किसी का ध्यान नहीं जाता है।

ये भी पढ़ें-रमाबाई रैली स्थल में होगा ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ कार्यक्रम!

  • शायद इसीलिए यह शिलापट टेप के सहारे चिपका हुआ है।
  • नवीन मीडिया कक्ष का उद्घाटन करने के लिए इस शिलापट को 7 मार्च 2009 को लगाया गया था।
  • उस समय इस कक्ष का उद्घाटन उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी एवं अखिल भारतीय कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह और तत्कालीन उत्तर प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने किया था।
  • (Congress office) शिलापट पर परवेज हाशमी का भी नाम अंकित है।

ये भी पढ़ें- तस्वीरें: CMS के 5000 छात्र करेंगे प्रधानमंत्री के साथ योग!

करोड़ों रुपये पार्टी करती है खर्चा

  • चुनाव के वक्त कांग्रेस पार्टी करोड़ों रुपये खर्च करती है।
  • पार्टी अपने उम्मीदवारों को भी लाखों रुपये उपलब्ध करवाती है।
  • लेकिन पार्टी अपने कार्यालय (Congress office) के घाव (गंदगी अव्यवस्था एवं बदहाली) नहीं भर पाती है।
  • पार्टी कार्यालय में खड़ी लाखों रुपये की गाड़ियां भी कबाड़ हो रही हैं।
  • लेकिन इन्हें देखने वाला तक कोई नहीं।
  • हालांकि इस (Congress office) मामले में कोई भी जिम्मेदार बोलने को तैयार नहीं है।

ये भी पढ़ें- योग दिवस की तैयारियां शुरू, 32 हजार लोगों ने किया आवेदन!

ये भी पढ़ें- ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ गृह मंत्री ने भीगते हुए किया योग, देखें फोटो!

सिंधु और निखार गर्ग बीडब्ल्यूएफ एथलीट आयोग की दौड़ में हुए शामिल!

ओलंपिक रजत पदक विजेता भारतीय स्टार शटलर पीवी सिंधु विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) के एथलीट आयोग में पद के लिए दावेदार हैं। सिंधु उन नौ शटलरों में शामिल है जो बीडब्ल्यूएफ में पद की दौड़ में हैं। बता दें कि हाल ही में सिंधु अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग पर पहुँची।

सिंधु के साथ निखर गर्ग में इस दौड़ में शामिल-

  • भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) के एथलीट आयोग में पद की दावेदार हैं।
  • नौ शटलर में सिंधु के साथ-साथ भारत का एक और दावेदार इस दौड़ में शामिल है।
  • कुल चार स्थान के लिए सिंधु के साथ पुरुष खिलाड़ी निखार गर्ग भी इस पद के लिए दावेदार है।
  • सिंधु को हाल ही में टाइम्स ऑफ इंडिया स्पोर्ट्स अवॉर्ड (TOISA) में स्पोर्ट्स पर्सन ऑफ द इयर चुना गया था।
  • जनवरी में पुरुष खिलाड़ी निखार गर्ग की युगल रैंकिंग 374 थी।
  • गर्ग ने बीडब्ल्यूएफ एथलीट अयोग में एक स्थान के लिए चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी।
  • इसलिए इस पद के लिए उनका नामंकन किया गया।
  • बीडब्ल्यूएफ के एथलीट आयोग के लिये नामांकन 27 मार्च को समाप्त हो गया था।
  • इस पद के लिये छह पुरुष और तीन महिलाएं दौड़ में हैं।

यह भी पढ़ें: पीवी सिंधु आने वाले कुछ सालों में भारत को आगे ले जाएंगी: पुलेला गोपीचंद

यह भी पढ़ें: करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग पर पहुंची शटलर पीवी सिंधु!

पीवी सिंधु आने वाले कुछ सालों में भारत को आगे ले जाएंगी: पुलेला गोपीचंद

बैडमिंटन के मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद के मुताबिक पीवी सिंधु अगले चार साल तक भारतीय बैडमिंटन को आगे लेकर जाएंगी। बता दें कि सिंधु ने 2016 ओलंपिक में रजत पदक जीता था।

अगला बड़ा सितारा आने में लगेगा समय-

  • कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा, ‘सिंधु केवल 21 वर्ष की है और आने वाले कुछ सालों में वो भारत को आगे ले जाएंगी।’
  • उनके मुताबिक टोक्यो 2020 ओलंपिक में भारत के पास अच्छी बेंच स्ट्रैंथ होगी।
  • साथ ही कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि अगले नए और बड़े सितारे को आगे आने में समय लगेगा।
  • उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को तैयार करना आसान नहीं होता है।
  • पुलेला गोपीचंद ने बताया कि रितुपर्णा और रूतविका जैसे खिलाड़ियों के पास अच्छा प्रदर्शन करने की क्षमता है।
  • इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सिक्की और प्रणव अच्छा कर रहे है।
  • उन्होंने बताया कि सात्विक और चिराग भी बेहतर प्रदर्शन कर रहे है।
  • पुलेला गोपीचंद ने बताया कि भारतीय बैडमिंटन के लिए अच्छा इशारा है।
  • उन्होंने बताया कि देश में कम से कम छह से सात खिलाड़ी है जो 20 साल से कम उम्र के है।

यह भी पढ़ें: इंडिया ओपन: क्वार्टर फाइनल में पीवी सिंधु ने दी साइना नेहवाल को मात!

यह भी पढ़ें: सुरेश रैना ने किया खुलासा, क्यों हैं क्रिकेट से काफी समय से दूर!

इंडिया ओपन: क्वार्टर फाइनल में पीवी सिंधु ने दी साइना नेहवाल को मात!

1

इंडियन ओपन बैडमिंटन सुपर सीरीज में भारत को दो दिग्गज और स्टार प्लेयर साइना नेहवाल और पीवी सिंधु आमने-सामने थी। मुकाबला बेहद मुश्किल था। दोनों अनुभवी खिलाड़ियों ने एक-दूसरे को कांटें की टक्कर दी लेकिन अंत में जीत सिंधु के हाथ लगी।

सिंधु ने साइना को हराया-

हार बार जीतना चाहती है साइना-

  • जीत के बाद सिंधु ने बताया कि उन्होंने आत्मविश्वास के कारण साइना पर जीत हासिल की।
  • उन्होंने कहा कि वो अपने हार प्रतिस्पर्धी के खिलाफ 100 प्रतिशत देती है।
  • सिंधु ने कहा, ’मैं केवल साइना के खिलाफ ही नहीं बल्कि हर बार जीतना चाहती हूं।’
  • आगे उन्होंने कहा कि सिंधु-साइना की बीच की प्रतिस्पर्धा कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है।
  • उन्होंने बताया कि जब दोनों खिलाड़ी कोर्ट में होते है तो मुकाबला होता है, लेकिन कोर्ट के बाहर दोनों स्टार खिलाड़ी अच्छे दोस्त है।

यह भी पढ़ें: लखनऊ में होने वाले राष्ट्रीय हॉकी चैम्पियनशिप की तारीख़ आगे बढ़ी!

यह भी पढ़ें: प्रो-कबड्डी लीग के पांचवें संस्करण में 8 की जगह 12 टीमें लेंगी हिस्सा!

1

CRPF के शहीद जवानों के परिवार को छह लाख रूपये दान करेंगी साइना नेहवाल

लंदन ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल ने छह लाख रूपये दान करने का फैसला किया है। उन्होंने केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के उन 12 जवानों के परिवार को ये रकम देने का फैसला किया है जो पिछले हफ्ते छत्तीसगढ़ में हुई मुठभेड़ में शहीद हुए।

साइना नेहवाल कर रही छह लाख रूपये दान-

  • 27 वर्षीय साइना नेहवाल ने बताया कि पिछले हफ्ते जो हुआ वो उससे काफी दुखी हैं।
  • बैडमिंटन स्टार साइना ने कहा कि यह छोटा-सा योगदान उन परिवारों के लिए जो इतने दुख से गुज़र रहे हैं।
  • साइना द्वारा दी गई इस रकम से हर परिवार को 50,000 मिलेगा।
  • साइना ने कहा, ‘मैं हमारे सैनिकों के लिए दुखी हूँ जो हमारे लिए खुद को जोखिम में डालते हैं।’
  • आगे उन्होंने कहा, ‘मैं उन सैनिकों को वापस नहीं ला सकता जो छत्तीसगढ़ में अपनी जान गंवा बैठे है लेकिन मैं इस छोटे से तरीके से उनके परिवारों के लिए यह छह लाख दान करना चाहती हूं।’
  • बता दें कि बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार ने भी 12 सीआरपीएफ के शहीदों को 08 करोड़ रूपये दान किया है।

यह भी पढ़ें: सिंपल सी साइना नेहवाल सादगी के साथ मना रहीं अपना 27वां जन्मदिन!

यह भी पढ़ें: सहवाग, गीता और कैफ ने इस तरह किया कल्पना चावला को याद!

सिंपल सी साइना नेहवाल सादगी के साथ मना रहीं अपना 27वां जन्मदिन!

आज भारत की स्टार प्लेयर साइना नेहवाल अपना 27वां जन्मदिन है। SASका जन्म 1990 को हुआ था। पद्मश्री साइना नेहवाल को विरासत ने बैडमिंटन खेलने का हुनर मिला था। साइना के पिता हरवीर सिंह और मां ऊषा नेहवाल भी बैडमिंटन चैम्पियन रहे हैं। साइना नेहवाल को भारत का सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

सादगी से मनाया अपना जन्मदिन-

  • दुनिया भर में मशहूर साइना नेहवाल ने अपना जन्मदिन बड़ी सादगी से मनाया.
  • उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो और कुछ तस्वीरें डाली है.

  • साइना नेहवाल दुनिया की नंबर वन रैंकिंग हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी हैं.

  • उन्होंने अपने कोच के साथ भी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है.

पूरा देश दे रहा स्टार खिलाड़ी को बधाईयाँ-

  • साइना नेहवाल के जन्मदिन पर पूरा देश उन्हें बधाई दे रहा है.
  • देश के खेल मंत्री विजय गोयल ने उन्होंने जन्मदिन की बधाई दी.

  • भारतीय क्रिकेट के मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने भी उन्हें सोशल मीडिया के ज़रियें जन्मदिन की बधाई दी.

  • खेल जगत के अलावा फिल्म जगत के दिग्गजों ने भी साइना नेहवाल को इस खास मौके पर बधाई दी.
  • एक्टर तापसी पन्नू ने साइना नेहवाल को बधाई दी.

  • ‘तनु वेड्स मनु’ के ‘पप्पी जी’ यानी दीपक डोबरियाल ने भी साइना को जन्मदिन की बधाई दी.

ज्वाला गुट्टा ने की बैडमिंटन अकादमी लांच करने की घोषणा

भारत की स्टार बैडमिंटन प्लेयर ज्वाला गुट्टा ने हैदराबाद में अपनी बैडमिंटन अकादमी लांच करने की घोषणा की है। ज्वाला गुट्टा ने युवा प्रतिभा को निखारने के लिए इस अकादमी को लांच करने की घोषणा की। इस अकादमी को वेलनेस लैब्स एएलपी के साथ मिलकर बनाया गया है।

‘खेल को गंभीरता से लेना शुरू कर दिया’-

  • स्टार खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने कहा कि अब युवा खिलाड़ी करियर विकल्प में बैडमिंटन को गंभीरता से ले रहे है।
  • उन्होंने बताया कि यह अकादमी युवा प्रतिभा की खोजेगी, उसे निखारेगी और ट्रेनिंग मुहैया कराएगी।
  • इस अकादमी में एक भारतीय और एक अंतर्राष्ट्रीय कोच होगा।
  • अकादमी में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की बैडमिंटन सुविधाएं दी जाएंगी।
  • इसके साथ ही खिलाड़ियों को वैश्विक टूर्नामेंट में प्रतिस्पर्धा की बेहतर तैयारी दी जाएगी।
  • ज्वाला गुट्टा अपनी इस अकादमी का विस्तार मुंबई, कोलकाता, दिल्ली और बेंगलुरू में करेगी।
  • इसमें कुल निवेश करीब 20 करोड़ होगा।
  • इसके अलावा अकादमी अच्छे खिलाड़ियों को विदेशी कार्यक्रम में भी भेजेगी।
  • अकादमी स्कूलों के परिसर में ही केंद्र खोलने के लिए स्कूलों से साझेदारी करेगी।
  • जमीनी स्तर पर स्थानीय स्कूलों में प्रतिभा खोजने में ध्यान लगाएगी।

यह भी पढ़ें: किंग्स इलेवन पंजाब की कमान अब इस ऑस्ट्रेलिया खिलाड़ी के नाम

यह भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलियाई अखबार ने भारतीय कप्तान विराट और कोच कुंबले पर लगाये गंभीर आरोप

साइना-सिंधु हुई ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप से बाहर, भारतीय चुनौती हुई समाप्त

आॅल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारतीय चुनौती उस वक्त समाप्त हो गई जब पीवी सिंधु और साइना नेहवाल अपनी-अपनी चुनौती में प्रतिद्वंदी खिलाड़ी से हार गई और चैंपियनशिप से बाहर हो गई।

साइना और सिंधु हुई बाहर-

  • ओलंपिक में रजत पदक विजेता पीवी सिंधु चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा।
  • सिंधु को चीनी ताइपे की ताई जु यिंग से हार मिली।
  • टूर्नामेंट का यह मैच 34 मिनट तक खेला गया।
  • इस क्वार्टर फाइनल में सिंधु को 21-14, 21-10 से हार का सामना करना पड़ा।
  • इसके अलावा साइना नेहवाल भी इस टूर्नामेंट में हार के साथ बाहर हुई।
  • भारत की स्टार बद्मिन्तोमं प्लेयर साइना को सुंग जि ह्युन ने मात दी।
  • 34 मिनट के इस खेल में साइना ने जीत के लिए कई कोशिशें की, लेकिन असफल रहीं।
  • सुंग ने साइना को 20-22, 20-22 से हार मिली।
  • साइना का कोरियाई खिलाड़ी के खिलाफ रिकार्ड 6 -1 का था।
  • लेकिन इस मैच में वह अपनी ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर सकीं।
  • इस टूर्नामेंट में पुरुष एकल में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे एचएस प्रनॉय पहले ही बाहर हो गए है।

यह भी पढ़ें: किंग्स इलेवन पंजाब की कमान अब इस ऑस्ट्रेलिया खिलाड़ी के नाम

यह भी पढ़ें: ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: सायना-सिंधु क्वार्टर फाइनल में, प्रनॉय हुए बाहर