30 जून की आधी रात संसद भवन में लांच होगा जीएसटीः अरुण जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने GST पर संवादाताओं को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने बताया कि GST 1 जुलाई से लागू होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि GST पर कई सरकारों ने अहम भूमिका निभाई है.

1 जुलाई से लागू होगा GST-

  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने GST पर संवाददाताओं को संबोधित किया.
  • इस दौरान उन्होंने कहा कि GST पर कई सरकारों ने अहम भूमिका निभाई है.
  • साथ ही उन्होंने GST की 1 जुलाई से होगा लागू होने की घोषणा की.
  • आगे उन्होंने बताया कि केरल और जम्मू-कश्मीर के अलावा सभी राज्यों में GST को लेकर कानून बन चुके हैं.
  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि 30 जून की आधी रात से GST लागू करने की औपचारिक घोषणा होगी.
  • मालूम हो कि पहले GST 1 अप्रैल को लागू किया जाना था.
  • लेकिन अब इसे 1 जुलाई की आधी रात से लागू किया जायेगा.
  • 30 जून को रात 12 बजे संसद में राष्ट्रपति GST लांच करेंगे.
  • वित्त मंत्री ने बताया कि GST के लांच कार्यक्रम में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, पीएम मोदी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह उपस्थित  रहेंगे.
  • अरुण जेटली ने बताया कि GST 30 जून और 1 जुलाई की मध्यरात्रि से लागू किया जाएगा.

यह भी पढ़ें: जीएसटी अब 1 अप्रैल से नहीं, 1 जुलाई से होगा लागू : अरुण जेटली

यह भी पढ़ें: जल्‍द नोटबंदी और जीएसटी पर चैप्‍टर पढ़ेंगे बच्‍चे, एनसीआरटी कर रहा तैयारी!

17वीं GST काउंसिल की बैठक के बाद अरुण जेटली ने की प्रेस कांफ्रेंस!

राजधानी दिल्ली में आज 17वीं GST काउंसिल की बैठक की गयी है. बता दें कि यह बैठक वित्तमंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में की गयी है. जिसके बाद अब जेटली द्वारा एक प्रेस कांफ्रेंस कर वस्तुओं के दामों में होने वाले फेरबदल की जानकारी दी गयी है.

वस्तुओं की कर दर में हुए बदलाव :

  • राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में आज 17वीं GST की बैठक की गयी है.
  • बता दें कि इस GST बैठक की अध्यक्षता वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा की गयी है.
  • साथ ही इस मौके पर कई अन्य वित्तमंत्रालय से जुए दिग्गज भी शामिल हुए हैं.
  • आपको बता दें कि इससे पहले भी एक GST काउंसिल की बैठक हो चुकी है.
  • जिसके तहत इस दौरान 133 वस्तुओं में से 66 वस्तुओं की कर दर को कम कर दिया गया है.
  • आपको बता दें कि इस दौरान ज़रुरत से जुड़ी और रोज़मर्रा की चीज़ों की कर दर में भी बदलाव किये गये हैं.
  • जिसके बाद अब आज होने वाली बैठक में भी कई वस्तुओं में ज़रूरी बदलाव किये गए हैं.
  • इस बैठक के बाद वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा एक प्रेस कांफ्रेंस की गयी है.
  • बता दें कि इस दौरान उन्होंने बैठक की जानकारी दी है जिसके तहत राज्य द्वारा चालित लौटरी पर 12% कर लगेगा.
  • साथ ही राज्य सरकार के अधीन चलने वाली लौटरी पर करीब 28 प्रतिशत का कर लगेगा.
  • इस दौरान उन्ह्होजने होटलों में लगने वाले कर की भी बात की है.
  • जिसके तहत कहा है कि 7500 और इससे ऊपर के होटल पर 28 प्रतिशत कर लगेगा.
  • वहीँ जो होटल 2500 से 7500 के बीच में हैंज उनपर GST के अंतर्गत 18 प्रतिशत कर लगेगा.
  • इसके अलावा इन होटलों में मौजूद रेस्टोरेंट पर बाक़ी के सभी AC रेस्टोरेंट जैसा 18 प्रतिशत कर लगेगा.
  • बता दें कि इस दौरान वित्तमंत्री ने GST के लागू होने की भी बात की है.
  • जिसके तहत कहा है कि यह कर व्यवस्था 30 जून की रात 12 बजे से लागू हो जाएगा.
  • साथ ही इसका स्वागत सरकार द्वारा एक जुलाई को एक कार्यकर्म के दौरान किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : CT17 फाइनल : देहरादून और आस-पास के क्षेत्रों में धारा 144 लागू!

दिल्ली : अरुण जेटली की अध्यक्षता में हो रही 17वीं GST काउंसिल की बैठक!

राजधानी दिल्ली में आज 17वीं GST काउंसिल की बैठक की जा रही है बता दें कि इस बैठक की अध्यक्षता वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा की जा रही है. इस बैठक में आज वित्तमंत्रालय के सभी दिग्गज शामिल हुए हैं साथ ही आज मंत्रालय द्वारा पूरी कोशिश की जायेगी कि हर समस्या का हल इस बैठक में निकाला जा सके. जिसके बाद यह GST को लेकर आखिरी बैठक हो.

16वीं बैठक में 133 वस्तुओं में से 66 की घटाई गयी थी दर :

  • राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में आज वित्तमंत्रालय और अन्य द्वारा GST की बैठक की जा रही है.
  • बता दें कि यह अब तक की 17वीं GST काउंसिल की बैठक है जिसकी अध्यक्षता वित्तमंत्री कर रहे हैं.
  • आपको बता दें कि इस बैठक में कुछ वस्तुओं की दरों पर चर्चा की जानी है.
  • जिसके बाद इस बैठक में कई राज्यों और उनकी समस्याओं पर भी गौर किया जाना है.
  • आपको बता दें कि इससे पहले हुए GST की बैठक में मंत्रालय द्वारा कई बड़े बदलाव किये थे.
  • जिसके तहत 133 वस्तुओं में से मंत्रालय द्वारा 66 वस्तुओं की कर दर को घटा दिया गया था.
  • साथ ही इस दौरान और भी कई बदलाव किये गए हैं जो आगे चलकर आम जनता को लाभ पहुँचायेंगे.
  • आपको बता दें कि दौरान उन्होंने सिनेमा टिकट पर लगने वाले कर को बरकरार रखा है.
  • जिसके तहत 100 रूपये से ऊपर की टिकट पर 28 प्रतिशत और 100 से नीचे पर 18 प्रतिशत कर लगेगा.
  • यही नहीं इस दौरान उन्होंने इन्सुलिन की बात करते हुए इसके घटने की बात कही.
  • साथ ही बताया कि इन्सुलिन पर 12 प्रतिशत की जगह अब केवल 5 प्रतिशत कर लगेगा.
  • यही नहीं बच्चों द्वारा इस्तेमाल आने वाले स्कूल बैग पर भी कर घटा के 28 से 18 प्रतिशत कर दिया गया है.
  • जिसके बाद आज भी इस बैठक में बची वस्तुओं के कर दरों पर चर्चा की जानी है.
  • साथ ही मंत्रालय द्वारा प्रयास किया जा रहा है कि वे इस बैठक को GST की आखिरी बैठक बना दें.
  • जिसके बाद आगामी एक जुलाई से इस GST की कर व्यवस्था को लागू कर दिया जाए.

यह भी पढ़ें : महबूबा मुफ्ती के खुद ही हैं आतंकवादियों से संबंध-नरेश अग्रवाल

अनंतनाग हमले में शहीद हुए जवान, अरुण जेटली ने जताया शोक!

जम्मू-कश्मीर में आये दिन आतंकियों द्वारा सेना को निशाना बनाया जा रहा है. ऐसे में पाकिस्तान भी कही पीछे  नहीं है. आपको बता दें कि पाकिस्तान द्वारा भी आये दिन घाटी में सीमा रेखा का उल्लंघन किया जा रहा है. ऐसे में सेना द्वारा आतंकियों और पाक सैनिकों को मुंहतोड़ जवाब भी दिया जा रहा है परंतु इन हमलों में सेना अपने जवान भी खो बैठ रही है. जिसके बाद अनंतनाग के आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों पर अरुण जेटली द्वारा शोक जताया गया है.

आतंकी हमले को बताया कायरतापूर्ण कृत्य :

  • घाटी में आये दिन आतंकियों द्वारा सेना को निशाना बनाया जा रहा है.
  • बता दें कि आतंकियों द्वारा लगातार कोशिश की जा रही है कि सेना को नुक्सान पहुँचाया जा सके.
  • इसी क्रम में पाकिस्तान भी कही पीछे नहीं है और लगातार सीमारेखा का उल्लंघन कर रहा है.
  • बता दें कि सेना द्वारा इस तरह के हमलों को पूरी कोशिश के साथ नाकाम किया जा रहा है.
  • जिसके बाद बौखलाया पाकिस्तान लगातार हमले कर रहा है जो पहले कभी सुनने में नहीं आये.
  • आपको बता दें कि इसी क्रम में बीते दिन अनंतनाग में आतंकियों द्वारा पुलिस बल पर हमला किया गया था.
  • जिसके बाद इस दौरान सेना ने अपने छह जवान खो दिए थे.
  • यही नहीं इस दौरान कई जवान गंभीर रूप से घायल हो गए हैं.
  • आपको बता दें कि इस हमले में शहीद हुए जवानों के बलिदान पर अरुण जेटली के शोक जताया है.
  • यही नहीं इस दौरान उन्होंने अपने बयान में आतंकवादियों को कायर बताया है.
  • आपको बता दें कि इस दौरान उन्होंने यह भी कहा है कि इस तरह के आतंकी हमले एक कायरतापूर्ण कृत्य है.
  • इस तरह के हमलों को केवल और केवल कायर लोग ही अंजाम दे सकते हैं.
  • जिसके बाद उन्होंने इस दिशा में उचित कदम उठाने की बात भी कही है.
  • आपको बता दें कि जेटली जल्द ही रूस के अपने चार दिवस के दौरे पर जा रहे हैं.
  • जिसके बाद इस दौरे के दौरान वे रूस के रक्षा मंत्री से मुलाक़ात करेंगे.

यह भी पढ़ें : दार्जीलिंग: प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई झड़प, हालात बिगड़े!

अरुण जेटली 20 जून से रूस के दौरे पर, रक्षा मंत्री से करेंगे मुलाक़ात!

केंद्रीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली जल्द ही अपने रूस के दौरे के लिए रवाना हो जायेंगे. बताया जा रहा है कि वे रूस के चार दिवसीय दौरे पर जायेंगे. इस दौरान वे रूस के रक्षा मंत्री सेर्गेई शायगु से मुलाक़ात करेंगे और भारत और रूस के बीच रक्षा से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा करेंगे.

पीएम मोदी ने भी किया है रूस का दौरा :

  • रक्षा मंत्री अरुण जेटली जल्द ही अपने रूस के चार दिवसीय दौरे पर जायेंगे.
  • आपको बता दें कि वे इस दौरे के लिए आगामी 20 जून को भारत से रूस के लिए रवाना होंगे.
  • गौरतलब है कि इस दौरान वे रूस के रक्षा मंत्री सेर्गेई शायगु से मुलाक़ात करेंगे.
  • साथ ही भारत और रूस के बीच होने वाली रक्षा संबंधी सभी बातों पर चर्चा करेंगे.
  • आपको बता दें कि रूस से भारत के रक्षा के क्षेत्र में संबंध होना बेहद आवश्यक है.
  • ऐसा इसलिए क्योकि आने वाले समय में भारत को रूस की सहायता आतंकवाद से लड़ने के लिए ज़रूरी है.
  • आपको बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी भी हाल ही में रूस का दौरा करने आए हैं.
  • बता दें कि वे इस दौरान चार देशों के दौरे पर थे जिसमे से एक रूस भी था.
  •  रूस के अपने दौरे के दौरान पीएम मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर से मुलाकात की थी.
  • साथ ही दोनों देशों के बीच आपस में राजनायिक संबंध बनाने पर चर्चा की गयी थी.
  • इस दौरान दोनों देशों के बीच कई ज़रूरी दस्तावेजों का आदान प्रदान भी हुआ था.
  • साथ ही पीएम मोदी ने इस दौरान रूस के निवेशकों को भारत में निवेश करने के लिए बुलावा भी भेजा था.
  • जिसके बाद उन्होंने इस दौरान मेक इन इंडिया की बात कही थी साथ ही भारत की खासियतें बताई थीं.
  • बता दें कि पीएम मोदी भी जल्द ही इस माह के अंत में नीदरलैंड के दौरे पर जा सकते हैं.

यह भी पढ़ें : बिहार: तेज प्रताप यादव के पेट्रोल पंप का लाइसेंस हुआ रद्द!

दिल्ली : राष्ट्रपति चुनाव को लेकर पीएम मोदी के निवास पर हो रही बैठक!

राजधानी दिल्ली में आज पीएम मोदी के निवास लोक कल्याण मार्ग में आज एक केंद्रीय मंत्रिमंडल के साथ बैठक की जा रही है. बता दें कि इस बैठक में बहुत से महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चाएँ की जा रही हैं. जिसमे से मुख्य है राष्ट्रपति चुनाव का मुद्दा. जिसके बाद हो सकता है कि आज इस चुनाव के लिए उम्मीदवार की घोषणा कर दी जाए.

सभी केंद्रीय मंत्री हुए शामिल :

  • प्रधानमंत्री मोदी के निवास पर आज केंद्रीय मंत्रिमंडल के साथ एक बैठक की जा रही है.
  • बता दें कि इस बैठक में केंद्र के सभी दिग्गज मंत्री शामिल हुए हैं.
  • इस बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चाएँ की जा रही हैं.
  • जिसके बाद इस दौरान आगामी राष्ट्रपति चुनावों के मुद्दे पर भी चर्चा की जा रही है.
  • बता दें कि इस दौरान केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, वेंकैया नायडू,
  • साथ ही बीजेपी के पार्टी प्रमुख अमित शाह भी इस बैठक में शामिल हैं.
  • आपको बता दें कि इस बैठक में यह तय हो सकता है कि आगामी चुनावों के लिए उम्मीदवार कौन होगा.
  • हलाकि इस मुद्दे पर चर्चा करने और निर्णय लेने के लिए बीजेपी द्वारा एक समिति का गठन भी किया गया है.
  • इस समिति में राजनाथ सिंह समेत अरुण जेटली और वेंकैया नायडू को मुख्य तौर पर इसका अंग बनाया गया है.
  • जिसके बाद इस समिति को राष्ट्रपति चुनावों के लिए उम्मीदवार तय करने की ज़िम्मेदारी दी गयी है.
  • ऐसा माना जा रहा है कि इस बैठक में आज सभी की मंजूरी के बाद उम्मीदवार की घोषणा हो सकती है.
  • इससे पहले ऐसा सुनने में आया था कि RSS प्रमुख मोहन भगवत को इस पद के लिए चुना गया है.
  • परंतु उन्होंने इस तरह के सभी अटकलों पर रोक लगते हुए खुद को इस दौड़ से अलग बताया.
  • साथ ही साफ़ किया की वे इस पद के लिए उम्मीदवार नहीं हैं.

यह भी पढ़ें : किसानों के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ब्याज सहायता योजना को दिखाई हरी झंडी!

GST के आने से कई जरुरी दवाओं के दाम बढ़ेंगे!

बहुप्रतीक्षित GST 1 से लागू होने जा रहा है. GST को लेकर तरह-तरह की चर्चाएँ हो रही हैं. इस नयी कर प्रणाली के कारण सरकार को भारी मुनाफा होने की उम्मीद है लेकिन इसके साथ ही आमजन पर इसका प्रभाव भी पड़ेगा.

कई वस्तुओं पर भारी टैक्स लगाया जा रहा है, वहीँ मेडिकल को लेकर भी जनता में चर्चाएँ हैं. अधिकांश जरुरी दवाओं के दाम 2.29 फीसदी बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है. जीएसटी प्रणाली के लागू होने के बाद अधिकांश जरूरी दवाओं के दाम बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है.

कई जरुरी दवाओं के दाम बढ़ेंगे:

  • अधिकांश जरूरी दवाओं पर सरकार ने 12 प्रतिशत की जीएसटी दर तय की है.
  • वर्तमान में इन पर लगभग 9 प्रतिशत का टैक्स लगता है.
  • GST लागू होने के बाद इंसुलिन सहित कुछ दवाओं के दाम कम होंगे.
  • इसमें सरकार ने जीएसटी की दर पूर्व प्रस्तावित 12 प्रतिशत से घटाकर 5 फीसदी कर दी है.
  • लेकिन कुछ जरुरी दवाएं महँगी होंगी.
  • जरूरी दवाओं की राष्ट्रीय सूची में डियाजेपेम, इमातिनिब, इबुप्रोफेन, प्रोप्रानोलोल, हेपरिन, वार्फेरिन और डिलटियाजेम शामिल हैं.
  • इनके दामों में वृद्धि होने की संभावना है.
  • वहीँ GST लागू होने की तारीखों पर भी संदेह बना हुआ था.
  • लेकिन वित्त मंत्री ने स्पष्ट किया कि GST एक जुलाई से ही लागू होगी.

राष्ट्रपति चुनाव का उम्मीदवार तय करने के लिए बीजेपी ने बनाई समिति-सूत्र

देश में आगामी 17 जुलाई को राष्ट्रपति चुनावों के लिए मतदान किये जाने हैं. जिसके तहत सभी पार्टियां अपने उम्मीदवार तय करने में जुटी हुई हैं. ऐसे में सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि बीजेपी पार्टी द्वारा अपनी तरफ से उम्मीदवार तय किये जाने के लिए एक समिति का गठन किया है.

वेंकैया नायडू, राजनाथ सिंह और जेटली बने सदस्य :

  • देश के अगले राष्ट्रपति चुनावों के लिए सरगर्मी तेज़ हो चुकी है.
  • जिसके तहत सभी पार्टियां अपने चुनावी उम्मीदवार को तय करने में जुटी हुई हैं.
  • हाल ही में चुनाव आयोग द्वारा घोषणा की गई है कि आगामी 17 जुलाई को मतदान होगा.
  • जिसके बाद सभी पार्टियां इस चुनाव के लिए अपनी तैयारी करने में जुट गयी हैं.
  • इसी बीच सूत्रों से खबर आ रही हैं कि बीजेपी ने अपने उम्मीदवार के लिए समिति का गठन किया है.
  • जिसके तहत इस समिति के सदयों में तीन दिग्गज नाम शामिल हुए हैं.
  • खबर के अनुसार कमेटी में वेंकैया नायडू,राजनाथ सिंह और जेटली सदस्य बने हैं.
  • जिसके बाद अब पार्टी की तरफ से उम्मीदवार तय किया जाएगा जो राष्ट्रपति चुनाव जीत सके.
  • आपको बता दें कि इस दौड़ में कांग्रेस भी है जो राष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार चाहती है.
  • जिसके बाद अब देखना यह है कि इस पद के लिए कौन उम्मीदवार होगा.
  • हालाँकि अभी तक कांग्रेस द्वारा भी अपने उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं किया गया है.
  • जिसके बाद अभी भी दोनों पार्टियों द्वारा विचार किया जा रहा है कि पार्टी से कौन इस पद का उम्मीदवार होगा.
  • बता दें कि बीते समय में कुछ अफवाहें उड़ी थीं कि आरएसएस अध्यक्ष मोहन भगवत इस पद के लिए बीजेपी की पसंद हैं.
  • परंतु खुद मोहन भगवत द्वारा इस बात से साफ़ इनकार कर दिया गया था.
  • जिसके बाद अब इस पद के लिए कौन उम्मीदवार होगा यह इस समिति में तय किया जाना है.

यह भी पढ़ें : आप करेगी इफ्तार पार्टी का आयोजन, मुख्य अतिथि होंगे अरविंद केजरीवाल!

अपने संसाधनों से किसानों का क़र्ज़ माफ़ करें राज्य-जेटली

महाराष्ट्र सरकार द्वारा बीते दिन एक बड़ा ऐलान किया गया है जिसके तहत घोषणा की गयी है कि वे जल्द ही किसानों का पूरा क़र्ज़ मांफ कर देंगे जिसके लिए वे एक टीम का गठन करेंगे. जिसके बाद अब इस मामले में वित्तमंत्री अरुण जेटली ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

RBI ने भी जारी किये थे निर्देश :

  • महाराष्ट्र सरकार द्वारा बीते दिन एक बड़ी घोषणा की गयी थी.
  • जिसके तहत कहा गया था कि वे जल्द ही किसानों का पूरा ऋण माफ़ कर देंगे.
  • जिसके बाद कहा गया था कि इकस काम के लिए सरकार द्वारा टीम का गठन किया जाएगा,
  • यह टीम इस बात पर पूरा गौर करेगी कि किस तरह से इस ऋण को माफ़ किया जा सकता है.
  • बता दें कि मामले में अब वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा प्रतिकिया दी गयी है.
  • जिसके तहत उन्होंने कहा है कि यदि राज्य सरकारें अपने किसानों को ऋण मुक्त करना चाहती हैं.
  • तो उन्हें यह भुगतान अपने कोष में से करना होगा और इसके लिए अपने संसाधनों का उपयोग करना होगा.
  • आपको बता दें कि बीते दिनों केंद्रीय रिज़र्व बैंक द्वारा भी राज्यों को ऐसा ना करने की सलाह दी गयी थी.
  • जिसके तहत कहा गया था कि यदि सभी राज्य इस तरह से किसानों का ऋण चुकायेंगे,
  • तो केंद्र से चलने वाली अर्थव्यवस्था पर खासा असर पड़ता नज़र आयेगा साथ ही मौद्रिक निति में भी समस्या आ सकती है.
  • राज्य इस तरह से किसानों को ऋण मुक्त करना चाहते हैं तो वे सरकारी खजाने की जगह अपने संसाधन चुने.
  • हाल ही में महाराष्ट्र सरकार के अलावा यूपी सरकार ने भी किसानों का ऋण माफ़ करने के आदेश दिए हैं.
  • जिसके बाद मध्यप्रदेश में भी किसानों द्वारा अपने मुआवज़े और ऋण मुक्ति के लिए आंदोलन छिड़ा हुआ है.
  • ऐसे में यदि सभी राज्य सरकारें अपने किसानों के ऋण मुक्त केंद्र सरकार के खजाने से करती हैं तो यह ख़त्म हो जाएगा.
  • यही नहीं ऐसा करने से देश की अर्थव्यवस्था में भी खासा नुकसान देखने को मिल सकता है.

यह भी पढ़ें : बिहार: राबड़ी देवी को नहीं चाहिए मॉल जाने वाली बहू!