राजेश के शरीर पर थे 89 घाव, शत्रु भी ऐसी क्रूरता नहीं करेगा: जेटली

केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने हाल ही में मारे गए आरएसएस कार्यकर्ता के परिजनों से मुलाकात की और इसे नृशंस हत्या करार दिया। केरल में कथित तौर पर माकपा कार्यकर्ताओं ने आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या कर दी थी।

यह भी पढ़ें: किसी भी हालात से निपटने को भारतीय सेना तैयार : अरुण जेटली

मृत आरएसएस कार्यकर्ता के परिवार से मिले जेटली-

  • ई. राजेश (34) के परिवार के सदस्यों से वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मुलाकात की
  • जेटली ने कहा कि एक शत्रु देश भी इस तरह से क्रूरता नहीं करेगा, लेकिन एक राजनीतिक दल ने ऐसा किया है।
  • ई. राजेश की कथित तौर पर माकपा कार्यकर्ताओं ने हफ्ते भर पहले नृशंस हत्या कर दी।
  • उन्होंने बताया कि राजेश के शरीर पर 89 घाव थे, हम उस जघन्य कृत्य को नहीं भूलेंगे।
  • आगे उन्होंने कहा, ‘केरल के कार्यकर्ता अकेले नहीं हैं, पूरा देश आपके साथ है।’

यह भी पढ़ें: देश आर्थिक रूप से एक हो गया है: अरुण जेटली

एक सप्ताह पहले हुई थी हत्या-

  • जेटली हवाईअड्डे से ई.राजेश (34) के घर गए।
  • राजेश की एक सप्ताह पहले हत्या कर दी गई थी।
  • जेटली ने राजेश की पत्नी, उनके दो बच्चों व परिवार के अन्य सदस्यों से मुलाकात की।
  • इसके बाद उन्होंने एक श्रद्धांजलि सभा को संबोधित किया
  • केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि केरल में राजनीतिक हिंसा की गाथा रही है।
  • बीजेपी नेता ने कहा कि सरकारों का चुनाव जनता के लिए अच्छे कार्य करने के लिए होता है।

यह भी पढ़ें: नोटबंदी के कारण आतंकियों को हुई पैसों की कमी: अरुण जेटली!

सत्तारूढ़ पार्टी हिंसा पैदा कर रही-

  • वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि केरल में सत्तारूढ़ पार्टी लोगों में हिंसा पैदा कर रही है।
  • इस तरह की विचारधारा हमारी विचारधारा को नहीं तोड़ सकती।
  • हमने इस तरह की हिंसा का सामना पीढ़ियों से किया है।
  • केरल के एक दिवसीय दौरे पर आए जेटली का हवाईअड्डे पर भारतीय जनता पार्टी की राज्य इकाई के नेताओं ने स्वागत किया।

यह भी पढ़ें: दुनिया में भारतीय अर्थव्यवस्था की साख हुई मजबूत: अरुण जेटली

कर्नाटक IT रेड पर बोले जेटली, MLA’s के लिए नहीं था छापा!

आयकर विभाग ने कर्नाटक के उस रिसॉर्ट पर छापेमारी की जिसमें गुजरात से कांग्रेस के 44 विधायकों को ठहराया गया है। इस मुद्दे पर राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ। इस दौरान वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि आयकर विभाग का छापा विधायकों के लिए नहीं था।

कर्नाटक IT रेड पर राज्य सभा में बोले जेटली-

  • राज्य सभा में इस मुद्दे को लेकर जमकर हंगामा हुआ।
  • कांग्रेस के आनंद शर्मा ने छापे की टाइमिंग पर सवाल खड़े किया।
  • अरुण जेटली ने बताया कि जिस रिजॉर्ट में विधायक रुके हैं, वहां छापा नहीं पड़ा।
  • उन्होंने बताया कि मंत्री से पूछताछ की जा रही है।
  • आगे उन्होंने बताया कि एक मंत्री के अलावा अन्य किसी भी विधायक की तलाशी नहीं ली गई है।

मंत्री के घर और रिसॉर्ट पर छापेमारी-

  • आयकर विभाग ने कर्नाटक के बिजली मंत्री डी.के. शिवकुमार के आवास और एक निजी रिसॉर्ट पर छापेमारी की।
  • कांग्रेस के विधायक एन.रवि के घर पर भी छापेमारी की।

आलीशान रिसॉर्ट में ठहरे हैं कांग्रेस के 44 विधायक-

  • गौरतलब है कि कांग्रेस के 44 विधायकों को अहमदाबाद से बेंगलुरू ले जाकर एक आलीशान रिसॉर्ट में ठहराया गया है।
  • इसके पीछे मकसद यही है कि आठ अगस्त को होने वाले राज्यसभा उपचुनाव में कहीं भाजपा कांग्रेस के इन विधायकों को तोड़कर अपनी पार्टी में शामिल करने में कामयाब न हो जाए।
  • जिसमें उनके शीर्ष नेता अहमद पटेल पांचवें कार्यकाल के लिए उम्मीदवार हैं।

 

सेना ने अरुण जेटली से की रक्षा बजट में बढ़ोतरी की मांग!

भारतीय सेना ने चीन और पाकिस्तान जैसे देशों से होने वाले खतरों से निपटने के लिए रक्षा मंत्रालय से बड़ी मांग की है। सशस्त्र बलों ने आवश्यक सैन्य आधुनिकीकरण और रख-रखाव सुनिश्चित करने के लिए अगले 5 साल में 26.84 लाख करोड़ रुपये आवंटित करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें… भारत संग रक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए अमेरिकी सदन में विधेयक पारित!

रक्षा बजट में बढ़ोतरी की मांग :

  • खबर के मुताबिक 10-11 जुलाई को DRDO समेत सभी हितधारकों के साथ व्यापक परामर्श हुआ।
  • जिसके बाद यूनिफाइड कमांडरों के सम्मेलन में 2017-2022 के लिए 13वीं समेकित रक्षा योजना पेश की गई।
  • जिसका अनुमान 26,83,924 करोड़ रुपये का है।
  • रक्षा बजट में बढ़ोतरी की मांग ऐसे समय में आई है।
  • जब जब सिक्किम में चीन के साथ टकराव चल रहा है और एलओसी पर पाकिस्तान के साथ लगातार गोलीबारी हो रही है।

यह भी पढ़ें… राम भरोसे ही है ‘यूपी विधानसभा’ की सुरक्षा!

रक्षामंत्री ने दिया आश्वासन :

  • रक्षामंत्री मंत्री अरुण जेटली ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए रक्षा आश्वासन दिया है।
  • कहा कि आधुनिकीकरण परियोजनाओं के लिए पूंजीगत व्यय प्राथमिक होगा।
  • आगे कहा कि लेकिन यह भी सच है कि वास्तविक वार्षिक रक्षा बजट ने आधुनिकता के बजट में गिरावट का एक स्पष्ट रुझान दिखाया है।

यह भी पढ़ें… घाटी के बच्चों को सेना का तोहफा, खोला फ्री ओपन आर्मी स्कूल!

मौजूदा समय में रक्षा बजट 2.74 लाख करोड़ :

  • मौजूदा समय में रक्षा बजट 2.74 लाख करोड़ रुपये है।
  • ये जीडीपी का 1.56% है. चीन के साथ हुए 1962 में युद्ध के बाद से ये न्यूनतम आंकड़ा है।
  • सेना चाहती है कि रक्षा बजट को बढ़ाकर जीडीपी के 2 फीसदी तक किया जाए।
  • 13वीं रक्षा योजना के अनुसार, पूंजीगत व्यय के लिए 12,88,654 करोड़ रुपये का अनुमान लगाया गया है।
  • जबकि राजस्व व्यय के लिए 13,95,271 करोड़ रुपये का अनुमान लगाया गया है।

यह भी पढ़ें… राष्ट्रपति चुनाव : 10 साल में पहली बार NDA को वोट देगी शिवसेना!

देश आर्थिक रूप से एक हो गया है: अरुण जेटली

रायपुर में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अरुण जेटली ने कहा कि 70 साल तक देश में जो व्यवस्था चली उसमें कर देने से बचने की प्रकृति आम थी।

GST पर बोले अरुण जेटली-

  • अरुण जेटली ने कहा कि सारे विश्व में अप्रत्यक्ष कर को प्रतिगामी माना जाता है।
  • वित्त मंत्री ने बताया कि कुछ लोगों का कहना है कि GST में एक ही रेट लगाना चाहिए।
  • उन्होंने कहा कि आर्थिक नीतियों को न समझने वाले ही ऐसी सलाह देते हैं।
  • आगे उन्होंने कहा कि जीएसटी ने देश को आर्थिक रुप से एक कर दिया है।
  • उन्होंने कहा कि यह देश का एक महत्वपूर्ण अंग है।
  • इस संबोधन में जेटली ने कहा कि अब हम धीरे-धीरे ऑनलाइन टैक्स की ओर बढ़ रहे है।

छत्‍तीसगढ़ निवेश के लिए महत्‍वपूर्ण-

  • रायपुर में जीएसटी पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अरुण जेटली ने कहा कि छत्‍तीसगढ़ निवेश के लिए एक बहुत ही महत्‍वपूर्ण जगह है।
  • उन्होंने बताया कि यह देश के बीचों बीच है।
  • साथ ही कहा कि यहां से यातायात के माध्‍यम से देश के किसी भी हिस्‍से तक आसानी से पहुंचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: GST के बाद ये मोबाइल ऐप देगा आपको सामान की पूरी जानकारी!

यह भी पढ़ें: सूरत : GST के खिलाफ सड़क पर उतरे हजारों कपड़ा व्यापारी!

GST से इंस्पेक्टर राज और भ्रष्टाचार खत्म होगा: अरुण जेटली

इंस्टिट्यूट ऑफ़ चार्टड अकाउंटेंट ऑफ़ इंडिया (ICAI) के स्थापना दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि GST से इंस्पेक्टर राज और भ्रष्टाचार खत्म होगा.

GST से खत्म होगा भ्रष्टाचार-

  • 30 जुलाई की आधी रात से पूरे देश में GST लागू हो चुका है.
  • ICAI के स्थापना दिवस कार्यक्रम में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि पूरी दुनिया हिंदुस्तान की ओर देख रही है.
  • आगे उन्होंने कहा कि अब तक टैक्स चोरी रास्ते ढूंढे जाते थे, देश को चलाने के लिए GST का जन्म हुआ है.
  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि GST से इंस्पेक्टर राज खत्म होगा साथ ही भ्रष्टाचार का भी खात्मा होगा.
  • GST को लेकर जनता के रवैये पर अरुण जेटली ने कहा कि विकसित देश के लिए मानसिकता बदलनी होगी.
  • आगे उन्होंने कहा कि आधे अधूरे रवैये से सुधार नहीं होता.
  • कार्यक्रम में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि दो साल से लगातार सबसे ज्यादा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) भारत में आया है.
  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार बहुत दिनों तक बाजार से उधार लेकर बुनियादी ढांचा क्षेत्र, सामाजिक सुरक्षा और देश की सुरक्षा में खर्च नहीं कर सकती.
  • अरुण जेटली ने कहा कि GST लागू हो जाने से पूरे देश में एक बाजार विकसित होगा और विकास के लिए सरकार को धन मिलेगा.
  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि उम्मीद जताते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर भी GST शामिल होगा, कुछ लोग विरोध करेंगे लेकिन विरोध के साथ भी लोकतंत्र चलता रहेगा.
  • आहे अरुण जेटली ने बताया कि कई दलों ने जीएसटी में एक रेट ही रखने का सुझाव दिया था लेकिन यह संभव नहीं है.
  • बता दें कि 1 जुलाई से पूरे भारत में GST लागू किया गया है.

यह भी पढ़ें: छोटे व्यापारियों के लिए नुकसानदेह है GTS: पी. चिदंबरम

यह भी पढ़ें: जानें 1 जुलाई को क्यों मनाया जाता है CA दिवस!

GST कार्यक्रम : नेताओं की सिटिंग बना चर्चा का विषय!

GST लॉन्च के भव्य कार्यक्रम के दौरान संसद के केंद्रीय कक्ष (सेंट्रल हाल) में विभिन्न दलों की उपस्थिति और नेताओं एवं गणमान्‍य व्‍यक्तियों की सिटिंग चर्चा का विषय रही।

सबसे आगे बैठे दिखे ये नेता :

  • इस कार्यक्रम में सबसे आगे की पंक्ति की एक सीट पर लालकृष्‍ण आडवाणी बैठे देखा गया।
  • इनके साथ हीबीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह और एनसीपी के नेता शरद पवार को एक साथ बैठे देखा गया।
  • शरद पवार की तरफ सपा की तरफ से रामगोपाल यादव भी अंग्रिम पंक्ति में बैठे थे।
  • पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, पीएम मोदी के बगल मंच पर उपस्थित थे।

वित्त मंत्री ने की असीम दासगुप्‍ता की तारीफ :

  • असीम दासगुप्‍ता जीएसटी पर गठित राज्‍यों के वित्‍त मंत्रियों के पैनल के अध्‍यक्ष रहे हैं।
  • वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने उनकी तारीफ करते हुए उनको जीएसटी के मसले पर अपना गुरू कहा।
  • असीम दासगुप्‍ता के पड़ोस में रतन टाटा और विजय केलकर मौजूद थे।
  • विजय केलकर उस कमेटी के चेयरमैन थे जिसने 2003 में सबसे जीएसटी लाने की सिफारिश की थी।

उपस्थित रहे शिवसेना के सभी सांसद :

  • अक्‍सर बीजेपी की नीतियों का विरोध करने वाली शिवसेना के सभी सांसद उपस्थित थे।
  • इसके नेता अनंत गीते और आनंदराव अदसुल बीजेडी के भर्तृहरि महताब के साथ अंग्रिम पंक्ति में मौजूद थे।
  • आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।
  • उनके अलावा आएसएस से संबद्ध एस गुरुमूर्ति और जम्‍मू-कश्‍मीर के वित्‍त मंत्री हसीब द्राबू की उपस्थिति भी चर्चाओं का सबब बनी।
  • दरअसल हसीब द्राबू की पार्टी पीडीपी ने शुरुआत में जीएसटी का विरोध किया था।

कांग्रेस समेत कई दलों ने किया बायकॉट :

  • बता दें कि जीएसटी लॉन्चिंग कार्यक्रम का कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के बॉयकॉट कर दिया।
  • आमंत्रण पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को भी मिला था लेकिन उनकी पार्टी कांग्रेस ने बॉयकॉट का फैसला किया था।
  • लिहाजा मनमोहन सिंह कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हुए।
  • गौरतलब है कि वाम दलों ने इस कार्यक्रम का बहिष्‍कार किया था।
  • लेकिन पश्विम बंगाल के पूर्व वित्‍त मंत्री एवं सीपीएम नेता असीम दासगुप्‍ता मौजूद थे।

ऐतिहासिक क्षण: भारत में लागू हुआ GST!

आज आधी रात से गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (GST) देश भर में लागू हो गया. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और पीएम मोदी ने ठीक रात 12 बजे एप्लिकेशन के जरिये GST लांच किया।

संसद में भव्य कार्यक्रम के बीच देश को मिला GST:

  • संसद भवन के सेंट्रल हॉल में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.
  • इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पीएम नरेंद्र मोदी मौजूद थे.
  • बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, वित्त मंत्री अरूण जेटली समेत पूरा सदन GST लांच पर मौजूद रहा.

सवा सौ करोड़ देशवासी इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह:

  • इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सवा सौ देशवासी इस पल के साक्षी हैं.
  • ये एक लम्बी विचार प्रक्रिया का परिणाम है.
  • गरीबों के लिए ये एक सार्थक व्यवस्था है.
  • नए भारत को सपने को साकार करने में अहम भूमिका जीएसटी निभाएगा.

राष्ट्रपति ने सभी दलों को सराहा:

  • राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जीएसटी लांच के मौके पर देश को सम्बोधित किया.
  • एक देश एक टैक्स लागू होगा.
  • व्यक्तिगत रूप से मैं खुश हूं.
  • अब नए युग का श्री गणेश होगा.
  • GST पर एकमत फैसले से खुशी है.
  • जीएसटी कमेटी के साथ काम किया है.

घंटा बजने के साथ ही देश में लागू हुआ GST:

  • राष्ट्रपति की मौजूदगी में आज सदन में घंटा बजाकर जीएसटी का स्वागत किया गया.
  • बता दें कि पूरे देश में एक समान कर प्रणाली लागू करने का मंच पूरी तरह से तैयार हो गया था.
  • आधी रात को संसद के सेंट्रल हॉल में लोकसभा और राज्यसभा का विशेष सत्र बुलाया गया था.
  • अरुण जेटली ने कहा कि देश में टैक्स की चोरी में कमी लाने में GST कारगर होगा.
  • वहीँ कांग्रेस के बहिष्कार के कारण पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सदन में उपस्थित नहीं हुए.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मौजूदगी में रात 12 बजे घंटा बजाकर इसे लांच किया गया.

आतिशबाजी के साथ लखनऊ में व्यापारियों ने किया GST का स्वागत!

एक तरफ जहां पूरे देश के व्यापारी ‘एक देश एक कर’ (GST) का लागू होने के चलते खुद को जंजीरों में जकड़ कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं आदर्श व्यापर मंडल (adarsh vyapar mandal) के प्रदेश अध्यक्ष संजय गुप्ता ने जीएसटी का समर्थन किया।

आतिशबाजी के साथ व्यापारियों ने किया GST का स्वागत:

  • शुक्रवार रात के 12:00 बजे व्यापारियों ने उदयगंज चौराहे पर आतिशबाजी के जरिये GST का समर्थन किया.
  • हुसैनगंज चौराहे पर भी आतिशबाजी का नजारा देखने को मिला.
  • व्यापारियों ने ख़ुशी मनाते हुए आतिशबाजी की और जीएसटी के समर्थन में नारे लगाए.
  • बता दें कि प्रदेश के कई जिलों में व्यापारियों ने आज बंद का आह्वान किया था.
  • पूरे दिन आज कई जगह पर इसको लेकर विरोध भी देखने को मिला था.

घंटा बजने के साथ ही देश में लागू हुआ GST:

  • राष्ट्रपति की मौजूदगी में आज सदन में घंटा बजाकर जीएसटी का स्वागत किया गया.
  • बता दें कि पूरे देश में एक समान कर प्रणाली लागू करने का मंच पूरी तरह से तैयार हो गया था.
  • आधी रात को संसद के सेंट्रल हॉल में लोकसभा और राज्यसभा का विशेष सत्र बुलाया गया था.
  • अरुण जेटली ने कहा कि देश में टैक्स की चोरी में कमी लाने में GST कारगर होगा.
  • वहीँ कांग्रेस के बहिष्कार के कारण पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सदन में उपस्थित नहीं हुए.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मौजूदगी में रात 12 बजे घंटा बजाकर इसे लांच किया गया.

तस्वीरें: GST का जश्न मना रहा है ‘बाटी चोखा’!

30 जून रात के 12 बजे देश में एक ऐसा बिल लागू होने वाला है जिसका जश्न संसद भवन में पूरे जोश और उत्साह के साथ मनाया जाने वाला है। ऐसे में कुछ व्यापारी और राजनीतिक पार्टियां इस जीएसटी बिल का जोर-शोर के साथ विरोध कर रही हैं। वहीं पूरे देश में अपने स्वाद से लोगों को दीवाना बना चुका बाटी चोखा रेस्टोरेंट इस जश्न को बड़ी धूमधाम से मना रहा है। बाटी चोखा जीएसटी का स्वागत एक नए अंदाज में कर रहा है, जिसमें वो रेस्टोरेंट में आए मेहमानों को जीएसटी से जुड़ी जानकारी देने के साथ ही अपने मेहमानों के साथ पटाखे और गुब्बारे फोड़ रहा है।

बाटी चोखा रेस्टोरेंट जीएसटी का मना रहा है जश्न

  • लखनऊ शहर का फेमस रेस्टोरेंट बाटी चोखा देश के इस जश्न को पूरी तैयारी के साथ मना रहा है।
  • बाटी चोखा लखनऊ सहित अपने बनारस और कलकत्ता में खुली ब्रांचों में भी इस जीएसटी बिल के स्वागत की तैयारी कर रहा है।
  • बाटी चोखा लोगों के बीच संदेश पहुंचाने की कोशिश कर रहा है।
  • जिस जीएसटी बिल को सरकार लागू करने जा रही है, उससे देश के सभी वर्ग के लोगों को फायदा होगा।

loading ...

बाटी चोखा रेस्टोरेंट की इस पहल से ऐसा लगता है कि जिस तरह से ये रेस्टोरेंट जीएसटी का समर्थन करते हुए इसे एक जश्न की तरह मना रहा है उसी तरह उन लोगों को भी आगे आकर इस नए भारत के साथ कदम से कदम मिला कर चलना चाहिए जो इसका विरोध कर रहे हैं।

  • बाटी चोखा रेस्टोरेंट जीएसटी के जश्न को एक यादगार पल के रुप में समेटना चाहता है।
  • इसीलिए बाटी चोखा देश की सरकार और जनता के साथ इस नए भारत के बनने में हिस्सेदार बन रहा है।
  • यह एक सराहनीय कार्य है।

क्या है जीएसटी :

जीएसटी के लागू होने से हर सामान और हर सेवा पर सिर्फ एक टैक्स लगेगा यानी वैट, एक्साइज और सर्विस टैक्स की जगह एक ही टैक्स लगेगा।

  • आम भारतवासी को जीएसटी से सबसे बड़ा फायदा होगा कि पूरे देश में सामान पर देश के लोगों को एक ही टैक्स चुकाना होगा।
  • यानी पूरे देश में किसी भी सामान की कीमत एक ही रहेगी।
  • वर्तमान में वस्तुओं पर भिन्न प्रकार के टैक्स लगते हैं।

सभी कर हो जाएंगे समाप्त :

  • इसके लागू होते ही केंद्र को मिलने वाली एक्साइज ड्यूटी, सर्विस टैक्स सब खत्म हो जाएंगे।
  • राज्यों को मिलने वाला वैट, मनोरंजन कर, लक्जरी टैक्स, लॉटरी टैक्स, एंट्री टैक्स, चुंगी गैरह भी खत्म हो जाएगी।
  • जीएसटी आने के बाद टैक्स का ढांचा पारदर्शी होगा और असमानता नहीं होगी।
  • काफी हद तक टैक्स विवाद कम होंगे।
  • जीएसटी लागू होने से ढेरों टैक्स कानून और रेगुलेटरों का झंझट नहीं होगा। साथ ही, सब कुछ ऑनलाइन होगा।
  • इससे एक ही व्यक्ति या संस्था पर कई बार कर लगाने की समस्या से छुटकारा मिलेगा।
  • इससे कुछ राज्यों में राजस्व में भी बढ़ोतरी होगी।