201 वकीलों की सूची पर सरकार दोबारा गौर करे- लखनऊ HC

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने गुरुवार को योगी सरकार से जवाब तलब किया था, यह जवाब सरकार से हाई कोर्ट में सरकारी वकीलों की नियुक्ति(Public Prosecutor Appointment) को लेकर माँगा गया था। जवाब दाखिल करने के लिए हाई कोर्ट की ओर से योगी सरकार को 1 दिन का समय दिया गया था। शुक्रवार 21 जुलाई को मामले की सुनवाई हुई।

11 अगस्त तक सूची पर दोबारा विचार करने का आदेश(Public Prosecutor Appointment):

  • शुक्रवार को लखनऊ हाई कोर्ट में 201 सरकारी वकीलों की नियुक्ति के मामले की सुनवाई हुई थी।
  • इस दौरान हाई कोर्ट ने योगी सरकार को सूची पर दोबारा विचार करने के आदेश दिए।
  • कोर्ट ने सुनवाई में कहा कि, 7 जुलाई को सरकारी वकीलों की लिस्ट जारी हुई थी,
  • लेकिन लिस्ट में महाधिवक्ता का अनुमोदन नहीं था।
  • इसके साथ ही राज्य सरकार की लिस्ट में हाई कोर्ट को कई कमियां मिली थीं।

हाई कोर्ट ने योगी सरकार को दिया आदेश(Public Prosecutor Appointment):

  • इलाहाबाद हाई कोर्ट की खंडपीठ लखनऊ ने शुक्रवार को सरकारी वकीलों की नियुक्ति की सुनवाई की थी।
  • जिसके बाद हाई कोर्ट की खंडपीठ ने योगी सरकार को आदेश दिए हैं।
  • आदेश में कहा गया है कि, राज्य सरकार 201 वकीलों की सूची पर दोबारा गौर करें।
  • साथ ही मामले की अगली सुनवाई आगामी 11 अगस्त को की जाएगी।

ये भी पढ़ें: लखनऊ HC ने योगी सरकार को दिया 24 घंटे का अल्टीमेटम!

10 दिन पहले छापे की जानकारी, ऐसे रुकेगी चोरी?

1

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रसोई गैस की कालाबाजारी(domestic gas black marketing) को रोकने की तैयारी की जा रही है, जिसके तहत जिला प्रशासन द्वारा राजधानी लखनऊ में बड़े पैमाने पर अभियान चलाने की तैयारी की जा रही है।

1 अगस्त से गैस एजेंसियों पर पड़ेगा छापा(domestic gas black marketing):

  • लखनऊ जिला प्रशासन रसोई गैस की कालाबाजारी को रोकने के लिए तैयारी कर रहा है।
  • जिसमें जिला प्रशासन द्वारा लखनऊ में बड़े पैमाने पर अभियान चलाया जायेगा।
  • जिसके तहत जिला प्रशासन बड़े पैमाने पर गैस एजेंसियों में छापे मारेगा।
  • यह छापा रसोई गैस की कालाबाजारी को रोकने के लिए किया जा रहा है।
  • जिला प्रशासन द्वारा यह छापे मारने का अभियान 1 अगस्त से शुरू किया जायेगा।

डीएम कौशल राज शर्मा ने जारी किये आदेश(domestic gas black marketing):

  • रसोई गैस की कालाबाजारी को रोकने के लिए लखनऊ जिले की एजेंसियों में बड़े पैमाने पर छापे मारे जायेंगे।
  • जिसका आदेश लखनऊ के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने जारी कर दिया है।
  • यह अभियान रसोई गैस की चोरी पर लगाम लगाने के लिए किया जा रहा है।

ऐसे कैसे रुकेगी कालाबाजारी?(domestic gas black marketing):

  • लखनऊ जिला प्रशासन भले ही रसोई गैस की कालाबाजारी को रोकने के लिये अभियान चलाने वाला हो,
  • लेकिन अभियान में छापे मारने की जानकारी 10 दिन पहले मीडिया को दे देने से कालाबाजारी को रोकना संभव होगा?
  • जबकि कालाबाजारी करने वाले भी कहीं न कहीं खबरों पर अपडेट रहते हैं।
  • ऐसे में जिला प्रशासन की रसोई गैस की कालाबाजारी को रोकने के लिए कोशिश की सफलता के आसार काफी कम हैं।
  • 10 दिन पहले छापा मारने की खबर क्या कालाबाजारियों को सचेत नहीं कर देगी।
  • इस तरह तो सिर्फ आप उन्हें ही पकड़ पाएंगे जो छोटे स्तर पर कालाबाजारी करते हैं।
  • जबकि, गैस एजेंसियां जो भी कालाबाजारी में लिप्त हैं, वे आसानी से इस अभियान से बचकर निकल सकती हैं।
  • ऐसे में जिलाधिकारी की ये 10 दिन पहले की घोषणा कितनी कामयाब होगी, वो 1 अगस्त के बाद पता चल जायेगा।

ये भी पढ़ें: भाजपा विधायक के गनर सहित 3 लोगों ने लड़की से किया गैंगरेप!

1

छुटभैया नेताओं के गुर्गे बने पुलिस-प्रशासन के लिये सिरदर्द!

राजधानी के छुटभैया नेताओं के गुर्गे पुलिस और प्रशासन के लिए सिरदर्द बनते जा रहे हैं। यही वजह है कि रेप, अपहरण और मारपीट जैसी घटनाओं में तेजी से इजाफा(crime rate lucknow) हुआ है। इसकी बानगी सरोजनीनगर में एक युवती को अगवा कर रेप के मामले में देखने को मिली। वहीं बीकेटी थाना क्षेत्र में भी रेप के आरोपी को पकडऩे गए पुलिस वालों पर लाल मिर्च पाउडर से हमला किया गया। हालांकि एसएसपी दीपक कुमार का कहना है कि, आरोपियों को जल्द ही दबोच लिया जाएगा। साथ ही अपराधियों को संरक्षण देने वालों को भी नहीं बख्शा जाएगा।

पहली घटना(crime rate lucknow):

  • बीकेटी थाना क्षेत्र में रहने वाली एक युवती ने अस्ती गांव निवासी आशीष सिंह के खिलाफ बलात्कार का आरोप लगाया था।
  • उसने शिकायत की तो पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर पीड़िता का मेडिकल करा उसका बयान दर्ज कराया।
  • जिसके बाद रात करीब डेढ़ बजे बीकेटी थाने में तैनात दरोगा नेपाल सिंह,
  • अपनी टीम आरक्षी पूजा आरक्षी सोनल आरक्षी आशा सिंह आरक्षी ऋतू पंचाल, कांस्टेबल गिरीश तिवारी,
  • कांस्टेबल अरविन्द सिंह के साथ आरोपी आशीष सिंह को पकडऩे अस्ती गांव जा रहे थे।
  • रास्ते में गश्त कर रहे कांस्टेबल नृपेन्द्र प्रताप सिंह व कांस्टेबल कुदरत उल्ला के मिलने पर उनको भी साथ ले लिया गया
  • जिसके बाद पूरी टीम के साथ दरोगा आरोपी के घर पहुंचे।
  • उपनिरीक्षक नेपाल सिंह ने बताया कि, घर की टूटी खिड़की फांदकर वह अपने कांस्टेबल नृपेन्द्र व गिरीश के साथ घर के अन्दर पहुंचे,
  • जहां आरोपी आशीष सिंह मौजूद था।
  • टीम ने आशीष को जैसे ही अपनी गिरफ्त में लिया,
  • वैसे ही घर में मौजूद महिलाओं ने पुलिस कर्मियों की आंखों में मिर्ची पाउडर झोंक दिया,
  • घर में मौजूद पुरुषों ने पुलिस की टीम पर कातिलाना हमला कर दिया।
  • घर के अंदर गयी पुलिस टीम की चीख सुनकर बाहर खड़े पुलिस कर्मी अंदर पहुंचे।
  • मदद के लिए घर के अंदर पहुंची पुलिस टीम ने आरोपियों पर हल्का बल प्रयोग कर
    गिरफ्तार कर लिया।
  • पुलिस ने मौके से तीन आरोपी महिलाएं सावित्री पत्नी रामसरन,
  • कु० रूबी पुत्री रामसरन व कमला पत्नी चोखे को गिरफ्तार कर लिया।
  • जबकि मौके का फायदा उठाते हुए आशीष व आशीष का भाई फरार हो गए।
  • इंस्पेक्टर बीकेटी का कहना है कि, आरोपी आशीष व उसके भाई की तलाश में दबिश दी जा रही है।
  • जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
  • खास बात यह रही कि, आरोपी आशीष वहीं के एक स्थानीय नेता का गुर्गा है,
  • जिसके चलते वह पुलिस कर्मियों पर आए दिन रौब भी झाड़ता रहता है।

दूसरी घटना(crime rate lucknow):

  • सरोजनीनगर थाना क्षेत्र में रहने वाली एक युवती को बाइक सवार दो युवकों ने अगवा कर लिया।
  • उसे एक सूनसान जगह पर ले गए जहां उसके मुंह में कपड़ा ठूसकर बालात्कार किया गया।
  • फिर उसे जान से मारने की धमकी देते हुए आरोपी उसके घर के बाहर फेंक कर भाग निकले। पीड़िता ने परिजनों को आपबीती सुनाई तो उनके होश उड़ गए।
  • पीड़ित परिवार पुलिस के पास पहुंचा तो रिपोर्ट दर्ज करने के बजाए पहले पीड़िता का मेडिकल कराए जाने की बात कही गई।
  • जब मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि हुई तब जाकर पुलिस ने मामला दर्ज किया।
  • इंस्पेक्टर सरोजनीनगर का कहना है कि, एक आरोपी अलीम को गिरफ्तार किया गया है।
  • जबकि दूसरा आरोपी रईस फरार है जिसकी तलाश की जा रही है।
  • सूत्र बताते हैं कि अलीम और रईस भी एक स्थानीय नेता के गुर्गे हैं और क्षेत्र में मारपीट व रंगदारी मांगते हैं।
  • इतना ही नहीं आए दिन दोनों कोई न कोई वारदात करते हैं,
  • लेकिन दबाव में उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा सकी है।

ये भी पढ़ें: ‘ झूठा पाउडर’ रखे जाने को रामगोविंद ने बताया सरकार की साजिश!

राज्यपाल राम नाईक ने पूरे किये अपने ‘3 साल’!

राम नाईक ने 22 जुलाई, 2014 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल के रूप में अपना कार्यभार संभाला था, जिसके तहत शनिवार 22 जुलाई को राज्यपाल राम नाईक के कार्यकाल का तीसरा साल(governor ram naik 3 years) पूरा हो रहा है। जिस दौरान राजभवन में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

राज्यपाल राम नाईक करेंगे प्रेस कांफ्रेंस(governor ram naik 3 years):

  • उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक के कार्यकाल को शनिवार को 3 साल पूरे हो रहे हैं।
  • जिसके तहत लखनऊ स्थित राजभवन में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।
  • गौरतलब है कि, राज्यपाल राम नाईक का कार्यकाल 22 जुलाई, 2014 से शुरू हुआ था।
  • शनिवार को राजभवन में प्रेस कांफ्रेंस का भी आयोजन किया गया है।
  • जिसका संबोधन राज्यपाल राम नाईक करेंगे।
  • प्रेस कांफ्रेंस दोपहर 3 बजे गांधी सभागार में आयोजित की गयी है।

तीसरे साल का देंगे ब्यौरा(governor ram naik 3 years):

  • शनिवार को राजभवन में राज्यपाल राम नाईक के कार्यकाल के तीन साल पूरे होने के चलते  प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया है।
  • प्रेस कांफ्रेंस का संबोधन राज्यपाल राम नाईक करेंगे।
  • साथ ही संबोधन में राज्यपाल राम नाईक अपने तीसरे साल का ब्यौरा देंगे।

2016-17 सत्र की किताब का करेंगे विमोचन(governor ram naik 3 years):

  • राज्यपाल राम नाईक शनिवार को राजभवन में प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।
  • इसके साथ ही रायपाल राम नाईक कार्यक्रम में अपनी एक पुस्तक का विमोचन भी करेंगे।
  • गौरतलब है कि, अपने हर साल के कार्यकाल पर राज्यपाल राम नाईक एक पुस्तक निकालते हैं।
  • यह किताब सत्र 2016-17 की होगी।

ये भी पढ़ें: मोदी की नीतियों के कारण जल रहा कश्मीर: राहुल गांधी!

कर्मियों को भरोसा, CM रोक सकते हैं TCS को बंद होने से!

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमती नगर के विभूति खंड स्थित टाटा कंसल्टेंसी सर्विस(TCS lucknow) को बंद करने की कवायद तेज हो गयी है, जिसके तहत TCS कर्मियों को मौखिक बंदी का आदेश पढ़कर सुनाया गया था। हालाँकि इतने बड़े पैमाने पर लोगों के बेरोजगार हो जाने के चलते कंपनी पर दबाव भी है। जिसके तहत शुक्रवार 21 जुलाई को TCS (TCS lucknow CEO)के भविष्य पर फैसला किया जायेगा।

मुख्यमंत्री योगी और TCS CEO के साथ बैठक(TCS lucknow CEO):

  • लखनऊ स्थित तीस साल पुराने TCS ऑफिस को बंद करने की कवायद चल रही है।
  • जिसके बाद शुक्रवार को TCS कर्मियों के भविष्य पर फैसला किया जायेगा।
  • इसी क्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बैठक बुलाई है।
  • बैठक में TCS कंपनी के CEO NG सुब्रमण्यम और अन्य अफसर शामिल रहेंगे।

TCS कर्मियों को कई जगहों पर शिफ्ट करने का फरमान(TCS lucknow CEO):

  • लखनऊ स्थित TCS कंपनी के कर्मियों को ऑफिस के बंद होने के बाद उन्हें TCS के अन्य ऑफिस में भेजा जायेगा।
  • TCS प्रबंधन ने लखनऊ के दफ्तर को समेटकर कर्मियों को नोएडा और दूसरे सेंटर पर भेजने का फैसला लिया है।
  • वहीँ TCS कर्मियों को ये उम्मीद है कि, मुख्यमंत्री योगी ऑफिस को बंद करने से रोक सकते हैं।
  • वहीँ अपने दौरे के समय टाटा कंपनी के प्रमुख रतन टाटा ने 2015 के दौरे में भरोसा दिलाया था कि,
  • प्रदेश के विकास में टाटा हर सम्भव सहयोग करेगी।

ये भी पढ़ें: TCS कंपनी और कर्मचारियों से बात करने को तैयार- मोहसिन रजा

मोहसिन रजा की प्रतिक्रिया(TCS lucknow CEO):

  • लखनऊ में 30 साल पुराने TCS सेण्टर को बंद किया जा रहा है।
  • जिस पर योगी सरकार में अल्पसंख्यक मोर्चा मंत्री मोहसिन रजा ने अपनी प्रतिक्रिया दी थी।
  • जिसमें उन्होंने कहा था कि, TCS कंपनी और कर्मचारियों से हम बात करने को तैयार हैं।
  • उन्होंने कहा था कि, हम चाहेंगे की TCS का सेंटर राजधानी लखनऊ में रहे।
  • मंत्री रजा ने आगे कहा था कि, बिल्डर मैनेजमेंट के चलते यह विवाद हुआ है।

कर्मियों ने हैशटैग के साथ CM योगी से मांगी थी मदद(TCS lucknow CEO):

  • सूबे की राजधानी लखनऊ स्थित TCS सेंटर को बंद करने का आदेश दिया गया था।
  • इसी के साथ ही कर्मियों ने सेंटर को बचाने के लिए ट्विटर पर #SaveTCSLko का हैशटैग चलाया था।
  • यह हैशटैग TCS कर्मियों द्वारा गुपचुप तरीके से चलाया जा रहा था।
  • साथ ही कर्मियों ने मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मदद की गुहार लगायी थी।

ये भी पढ़ें: CM योगी के जनता दरबार में पहुंचे TCS कर्मचारी!

आर्थिक दिक्कतें बनी बंदी की वजह(TCS lucknow CEO):

  • लखनऊ स्थित TCS सेंटर को बंद किया जा रहा है।
  • जिसके पीछे लीज पर बिल्डिंग का किराया चार गुना बढ़ाए जाने की बात कही गयी है।
  • वहीँ सूत्रों के मुताबिक, आर्थिक दिक्कतें बंदी की वजह बन रही हैं।
  • TCS बंद होने से करीब 2 हजार लोगों की रोजी-रोटी पर संकट बन जायेगा।

1987 से लखनऊ में है TCS(TCS lucknow CEO):

  • TCS सेंटर लखनऊ में बंद किया जा रहा है।
  • जिसके बाद करीब 2 हजार लोगों की रोजी-रोटी पर संकट गहरा रहा है।
  • गौरतलब है कि, TCS 1987 में लखनऊ में है।
  • इस दौरान 1987-88 तक राणा प्रताप मार्ग पर TCS का ऑफिस रहा था।
  • जिसके बाद 2008 तक TCS का ऑफिस स्टेशन रोड पर रहा था।
  • स्टेशन रोड के बाद ऑफिस को गोमती नगर में शिफ्ट किया गया था।

ये भी पढ़ें: 30 साल पुराना लखनऊ TCS सेंटर होगा बंद!

वीडियो: आतंकी सलीम को लेकर कोर्ट पहुंची ATS!

उत्तर प्रदेश एंटी टेररिस्ट स्क्वाड ने मुंबई पुलिस के साथ संयुक्त अभियान में आतंकी हैंडलर सलीम खान(terrorist salim khan) को मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था, जिसके तहत यूपी ATS सलीम खान को लेकर गुरुवार को राजधानी लखनऊ पहुंची थी। इसी क्रम में शुक्रवार 21 जुलाई को यूपी ATS आतंकी हैंडलर सलीम खान को लेकर कोर्ट पहुंची है।

देखें वीडियो:

तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड पर है आतंकी सलीम खान(terrorist salim khan) :

  • यूपी ATS आतंकी सलीम खान को लेकर कोर्ट पहुंची है।
  • गौरतलब है कि, ATS को सलीम खान की तीन दिनों की ट्रांजिट रिमांड मिली हुई है।
  • ATS डीजी कोर्ट में पुलिस रिमांड की अर्जी भी देगी।

लश्कर-ए-तैयबा का प्रशिक्षित आतंकी है सलीम खान(terrorist salim khan):

  • यूपी ATS गुरुवार को आतंकी सलीम खान को मुंबई से लेकर राजधानी लखनऊ पहुंची थी।
  • जिसके तहत शुक्रवार से यूपी ATS सलीम खान से पूछताछ करेगी।
  • गौरतलब है कि, सलीम खान को आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से आतंकी की ट्रेनिंग मिली है।
  • साथ ही सलीम खान की गिरफ़्तारी के बाद ATS को आतंकवाद से लड़ने में काफी मदद मिलेगी।

UP ATS की पूछताछ के संभावित प्रश्न(terrorist salim khan):

  • उत्तर प्रदेश ATS शुक्रवार से आतंकी सलीम खान से पूछताछ करेगी।
  • इस दौरान यूपी ATS आतंकी सलीम से निम्न संभावित प्रश्न पूछ सकती है।
  • जैसे कि, उसने कितनी बार और किस पते पर भारतीय पासपोर्ट बनवाया।
  • मुज्जफ्फराबाद में कितने समय उसने आतंकी ट्रेनिंग ली।
  • उसके साथ और किन-किन लोगों को ट्रेनिंग दी गयी।
  • आतंकी सलीम किन-किन आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा था।
  • किस उद्देश्य से दुबई गया और वहां प्रवास के दौरान गतिविधियाँ क्या थीं।
  • वर्तमान में देश और विदेश के किन आतंकवादियों के साथ सम्पर्क में है।
  • क्या वह किसी आतंकी घटना में शामिल रहा और उसमें उसकी क्या भूमिका थी।

सूबे में कई आतंकी घटनाओं से उठ सकता है पर्दा(terrorist salim khan):

  • यूपी ATS सलीम खान से शुक्रवार को पूछताछ करेगी।
  • जिसके तहत प्रदेश में बीते दिनों हुई कई आतंकी घटनाओं पर से पर्दा उठ सकता है।
  • गौरतलब है कि, सूत्रों के अनुसार, सलीम खान कई आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है।
  • जिनमें उत्तर प्रदेश में हाल में हुई घटनाएँ भी शामिल रही हैं।
  • इसके अलावा ठाकुरगंज में जिस आतंकी का यूपी ATS ने एनकाउंटर किया था।
  • उसे भी पैसे पहुंचाने का काम सलीम के ही जिम्मे था, ऐसा माना जा रहा है।

कौन है सलीम खान(terrorist salim khan):

  • पकड़ा गया संदिग्ध सलीम खान उत्तर प्रदेश के फतेहपुर के बंदीपुर थाना हाथ गांव का रहने वाला है।
  • सलीम के पिता का नाम मुकीम खान है।
  • आतंकी सलीम के 4 भाई 3 बहनें हैं।
  • सलीम चार भाइयो में सबसे बड़ा है।

let terrorist family

  • उसकी बहनों की शादी हो चुकी है।
  • आतंकी सलीम के पिता के पास कुल 6 बीघा जमीन है।
  • सलीम 15 सालों से विदेश में रहता था,
  • लेकिन वो विदेश में कहाँ रहता था इसकी जानकारी किसी को नहीं थी।
  • सलीम 5 साल से गांव नहीं आया ⁠⁠⁠⁠था।
  • सलीम खान यूपी एटीएस से वांछित था।
  • सुरक्षा एजेंसी पिछले कई माह से उसकी तलाश कर रही थीं।
  • आतंकी गतिविधियों में लिप्त लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी को,
  • गोपनीय सूचना के आधार पर मुंबई एयरपोर्ट पर सोमवार को गिरफ्तार किया गया है।
  • बताया जा रहा है कि सलीम संदिग्ध 15 अगस्त को लेकर रेकी कर रहा था।
  • साथ ही किसी बड़े हमले की साजिश करने की योजना बना रहा था।

ये भी पढ़ें: लश्कर का संदिग्ध आतंकी सलीम खान मुंबई एयरपोर्ट से हुआ गिरफ्तार!

मथुरा कांड: आरोपी कर्मियों ने कार्रवाई से पहले मांगे सबूत!

उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में साल 2016 में 2 जून को जवाहर बाग़ (jawahar bagh case) में कब्ज़ा हटवाने गयी पुलिस फोर्स पर सैकड़ों हथियारबंद लोगों ने हमला कर दिया था, जिसमें तत्कालीन SSP मुकुल द्विवेदी और SHO संतोष की मुठभेड़ के दौरान मौत हो गयी थी। जिसके बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गयी थी।

गृह विभाग के दो कर्मचारियों से पूछताछ(jawahar bagh case):

  • मथुरा में जवाहर बाग़ हत्याकांड की जांच सीबीआई के पास है।
  • जिसके तहत सीबीआई ने मामले में गृह विभाग के 2 कर्मचारियों से पूछताछ की है।
  • मामले में गृह विभाग ने 15 दिनों के अन्दर विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए थे।
  • दोनों आरोपी कर्मियों ने गृह विभाग से जवाहर बाग़ काण्ड के पेपर मांगे हैं।

कार्रवाई से पहले मांग रहे सबूत(jawahar bagh case):

  • मथुरा काण्ड की जांच सीबीआई कर रही है, वहीँ सीबीआई की जांच में 2 गृह विभाग के कर्मी आरोपी पाए गए हैं।
  • जिसके बाद विभाग ने कार्रवाई के लिए 15 दिन का समय दिया था।
  • वहीँ आरोपी रजनीश, शेषमणि ने कार्रवाई से पहले ही सबूत मांग लिए हैं।
  • दोनों कमिर्यों पर पत्रावलियां लंबित करने का आरोप है।

नक्सलियों से जुड़े थे तार(jawahar bagh case):

  • मथुरा के जवाहरबाग़ हत्याकांड जैसी घटना ने वर्तमान सरकार समेत प्रशासन को सकते में डाल दिया था।
  • हालाँकि, मामले में राज्य सरकार द्वारा लापरवाही को भी बड़े पैमाने पर प्रदर्शित किया गया था।
  • वहीँ सरकार की मुश्किलें तब बढ़ गयीं जब जांच के बाद जवाहरबाग़ घटना के तार नक्सलियों से जुड़े मिले।
  • जांच में सामने आया कि, नक्सलियों द्वारा रामवृक्ष यादव को बड़े पैमाने पर हथियार-खाद्य सामग्री दिलाई जा रही थी।

रामवृक्ष यादव को मृत घोषित किया यूपी पुलिस ने(jawahar bagh case):

  • जवाहरबाग़ हत्याकांड में राज्य सरकार और यूपी पुलिस की काफी फजीहत हुई थी।
  • जिसके बाद मुठभेड़ रुकने के साथ ही तत्कालीन DGP जावीद अहमद ने जानकारी दी कि, रामवृक्ष यादव को मार दिया गया है।
  • लेकिन यूपी पुलिस के इस दावे की हवा रामवृक्ष यादव के बेटे विवेक यादव ने ही निकाल दी थी।
  • विवेक के मुताबिक, यूपी पुलिस ने रामवृक्ष यादव को जिंदा पकड़ा था।
  • रामवृक्ष यादव के जिंदा होने की पुष्टि का समर्थन हैदराबाद के FLS की DNA रिपोर्ट में किया गया है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक, रामवृक्ष यादव का डीएनए विवेक यादव से मैच नहीं हुआ था।

पूरा मामला(jawahar bagh case):

  • साल 2014 में रामवृक्ष यादव के नेतृत्व में कुछ प्रदर्शनकारियों ने जवाहरबाग़ में तीन दिन के लिए डेरा डाला था।
  • ये सभी प्रदर्शन के लिए दिल्ली जा रहे थे।
  • लेकिन तीन दिन का प्रदर्शन बढ़कर 2 साल का हो गया।
  • इस दौरान रामवृक्ष यादव और उसके साथियों ने बाग़ में झोपड़ियाँ भी बना ली थी।
  • साथ ही साथ बाग़ में एक प्रकार से कब्ज़ा कर किसी के भी आने-जाने की रोक लगा दी गयी।
  • रामवृक्ष यादव लगभग रोज शाम को सभाएं करता था, जिसमें भड़काऊ भाषण दिए जाते थे।
  • कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद पुलिस की टीम बीते 2 जून को बाग़ को खाली कराने पहुंची थी।
  • लेकिन बाग़ में मौजूद रामवृक्ष यादव के हथियारबंद साथियों ने पुलिस पर अचानक गोलियां बरसानी शुरू कर दी।
  • जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गयी, मुठभेड़ में SSP मुकुल द्विवेदी और SHO संतोष घायल हो गए थे।
  • बाद में मामले की जांच कोर्ट द्वारा सीबीआई को सौंप दी गयी थी।

ये भी पढ़ें: जवाहरबाग कांड:CBI के रडार पर 2 कर्मचारी!

विस्फोटक मुद्दे पर CM योगी लेंगे गृह विभाग की ‘क्लास’!

उत्तर प्रदेश की 17वीं विधानसभा के मानसून सत्र की शुरुआत बीते 11 जुलाई से हुई थी, जिसके तहत गुरुवार से विधानसभा में योगी सरकार अपने विभागों के बजट पेश कर रही है। शुक्रवार को विधानसभा की कार्यवाही के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई विशिष्ट लोगों(CM yogi proposed program) से मुलाकात करेंगे, साथ ही मुख्यमंत्री योगी सांसदों से भी मुलाकात करेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आज के प्रस्तावित कार्यक्रम(CM yogi proposed program):

  • 17वीं विधानसभा के मानसून सत्र की कार्यवाही राजधानी में जारी है।
  • जिसके तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को सदन की कार्यवाही में भाग लेंगे।
  • कार्यवाही में शामिल होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ HC के जज नारायण शुक्ला से मुलाकात करेंगे।
  • HC जज के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर राकेश उपाध्याय से मिलेंगे।

TCS के भविष्य पर होगा फैसला(CM yogi proposed program):

  • BHU प्रोफ़ेसर से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ TCS के CEO NG सुब्रमण्यम से मुलाकात करेंगे।
  • जिसमें TCS लखनऊ के 30 साल पुराने ऑफिस के भविष्य को लेकर चर्चा की जाएगी।
  • यह मुलाकात ऑफिस के पलायन को लेकर आयोजित की गयी है।

गृह और नगर विकास विभाग के अफसरों के साथ बैठक(CM yogi proposed program):

  • TCS CEO से मिलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सूबे के अफसरों की बैठक लेंगे।
  • जिसके तहत गृह विभाग और नगर विकास विभाग के अफसरों के साथ बैठक की जाएगी।
  • यह बैठक शाम 5 बजे से लेकर 8 बजे तक चलेगी।

सांसदों से मिलेंगे मुख्यमंत्री योगी(CM yogi proposed program):

  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को यूपी के सांसदों से मुलाकात करेंगे।
  • यह मुलाकात शाम 4 बजे से लेकर 5 बजे तक जारी रहेगी।

ये भी पढ़ें: शौचालय निर्माण ना कराने वाले 300 परिवारों को नोटिस!

राष्ट्रपति चुनाव पर यूपी के बड़े नेताओं की प्रतिक्रिया!

बीते 17 जुलाई को देश की संसद समेत सभी 31 विधानसभाओं में राष्ट्रपति चुनाव के तहत वोटिंग हुई थी, जिसके बाद गुरुवार को राष्ट्रपति चुनाव में डाले गए मतों की गिनती की गयी थी। गिनती के बाद रामनाथ कोविंद को देश का प्रथम नागरिक घोषित किया गया था। NDA उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने UPA उम्मीदवार को भारी मतों से हराया था। रामनाथ कोविंद के महामहिम चुने जाने के बाद उत्तर प्रदेश के कुछ बड़े नेताओं ने प्रतिक्रिया(big leaders reacted) दी हैं।

रामनाथ कोविंद के राष्ट्रपति चुने जाने पर यूपी के कुछ बड़े नेताओं की प्रतिक्रिया(big leaders reacted):

श्रीप्रकाश जायसवाल, कांग्रेस(big leaders reacted):

  • कांग्रेस नेता ने कहा कि, मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं देते हैं।
  • मुझे भरोसा है कि, कानपुर की समस्याओं को समझकर उन्हें दूर करवाएंगे।
  • यूपी को उनसे बेहतर कोई नहीं समझ सकता है।

राम अचल राजभर, प्रदेश अध्यक्ष बसपा(big leaders reacted):

  • बसपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि, हम उनकी जीत पर बहुत-बहुत शुभकामनाएं देते हैं।
  • एक व्यक्ति और भारत के प्रथम नागरिक होने के नाते वो लोकतंत्र के उच्चतम शिखर पर संघर्षों के साथ पहुंचे हैं।

दीपक मिश्रा, समाजवादी चिंतन सभा अध्यक्ष(big leaders reacted):

  • सपा नेता दीपक मिश्रा ने कहा कि, हमारा समर्थन पहले से रामनाथ कोविंद को था।
  • इसलिए उनकी जीत पर हमें ऐसा लग रहा है, जैसे हमारी जीत हुई हो।

कलराज मिश्र, केन्द्रीय मंत्री(big leaders reacted):

  • केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि, रामनाथ कोविंद के राष्ट्रपति बनने से उत्तर प्रदेश को नई ऊर्जा मिलेगी।
  • ये ऐतिहासिक क्षण है कि, सालों बाद दलित वर्ग से उच्चतम शिखर पर बैठा है।

ये भी पढ़ें: राष्ट्रपति के घर में नहीं मिली थी ‘एंट्री’, अब पहुंचेंगे ‘शान’ से!