गायत्री ने रेप की जमानत के लिए जजों-वकीलों को दी थी 10 करोड़ की रिश्वत!

बलात्कार और यौनशोषण के आरोप में फंसे उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति (10 crores bribe) भले ही जमानत पर हैं। लेकिन इसको लेकर अब एक और विवाद पैदा हो गया है। एक प्रतिष्ठित अंग्रेजी अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार गायत्री प्रसाद प्रजापति को जमानत मिलना पहले से ही तय था।

  • गायत्री को जमानत दिलवाने में एक वरिष्ठ जज भी शामिल थे।
  • जमानत मिलने के पीछे 10 करोड़ रुपये का लेन-देन हुआ था।
  • रिपोर्ट के अनुसार, रेप और हत्या जैसे मामलों की सुनवाई करने वाले जजों की पोस्टिंग में भी भ्रष्टाचार की बात आई है।

ये भी पढ़ें- सीबीआई करेगी गोमती रिवर फ्रंट में हुई अनियमितताओं की जांच!

क्या कहती है रिपोर्ट

  • जस्टिस भोसले की रिपोर्ट के अनुसार, सेशन जज ओ.पी. मिश्रा को रिटायर होने से 3 हफ्ते पहले ही प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस के जज के रूप में तैनात हुए थे।
  • 25 अप्रैल को उन्होंने प्रजापति को जमानत दी थी।
  • रिपोर्ट के अनुसार, ओ.पी. मिश्रा की नियुक्ति में नियमों की अनदेखी हुई थी।
  • आईबी ने भी जज की गलत पोस्टिंग की बात को माना है।
  • रिपोर्ट में कहा गया है कि गायत्री प्रजापति को 10 करोड़ रुपये के ऐवज में जमानत दी गई थी।
  • जिसमें से 5 करोड़ रुपये उन तीन वकीलों को दिए गए जो मामले में बिचौलिए की भूमिका निभा रहे थे।

ये भी पढ़ें- भाजपा ने की प्रधानमंत्री के भव्य स्वागत की तैयारी!

  • वहीं बाकी के 5 करोड़ रुपये पॉक्सो जज (ओपी मिश्रा) और उनकी पोस्टिंग संवेदनशील मामलों की सुनवाई करने वाली कोर्ट में करने वाले जिला जज राजेंद्र सिंह को दिए गए थे।
  • अभी तक इस मामले में जिला जज राजेंद्र सिंह से पूछताछ की जा चुकी है।
  • मामले के सामने आने के बाद राजेंद्र सिंह को पदोन्नत कर हाई कोर्ट में तैनात किया जाना था।
  • लेकिन इस मामले के सामने आने के बाद सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने उनका नाम वापस ले लिया है और आगे की प्रक्रिया लंबित है।
  • अपनी रिपोर्ट में जस्टिस भोसले ने कहा कि 18 जुलाई 2016 को पोक्सो जज के रूप में लक्ष्मी कांत राठौर की तैनाती की गई थी।
  • वह बेहतरीन काम कर रहे थे।
  • उन्हें अचानक से हटाने और उनके स्थान 7 अप्रैल 2017 को ओपी मिश्रा की पॉक्सो जज के रूप में तैनाती के पीछे कोई औचित्य या उपयुक्त कारण नहीं था।
  • उन्होंने बताया कि मिश्रा की तैनाती तब की गई जब उनके रिटायर होने में मुश्किल से तीन सप्ताह का समय था।

ये भी पढ़ें- योग दिवस के पूर्वाभ्यास पर सीएम योगी पहुंचे रामाबाई अंबेडकर पार्क!

क्या है मामला

  • गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के सख्त आदेश के बाद यूपी पुलिस ने गायत्री और उनके सहयोगियों अशोक तिवारी, पिंटू सिंह, विकास शर्मा, चंद्रपाल, रूपेश और आशीष शुक्ला के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 376डी, 511, 504, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया था।
  • आईपीसी की धारा- 376 के तहत रेप का केस दर्ज होता है।
  • इसमें आरोपी को 10 साल की कैद या उम्रकैद होती है।
  • धारा- 376 डी के तहत गैंगरेप का केस दर्ज होता है, जिसमें उम्रकैद की सजा होती है।
  • अब इस रिपोर्ट के बाद नया विवाद खड़ा हो गया है।

ये भी पढ़ें- गायत्री ने रेप की जमानत के लिए जजों-वकीलों को दी थी 10 करोड़ की रिश्वत!

यूपी की जेलों में अब भी धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहे हैं मोबाइल!

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले यूपी की जेलों में मोबाइल का धड़ल्ले से प्रयोग(mobile use) किया जा रहा था, जो यूपी विधानसभा चुनाव पूरे हो जाने के बाद भी बदस्तूर जारी है। राज्य सरकार की मंशा के बाद भी यूपी की जेलों में मोबाइल का इस्तेमाल बेख़ौफ़ किया जा रहा है।

मोबाइल इस्तेमाल की रिपोर्ट के बाद गृह विभाग मामले में चुप(mobile use):

  • यूपी विधानसभा चुनाव में जेलों में इस्तेमाल हो रहे मोबाइल फोन का मुद्दा प्रमुखता से उठाया गया था।
  • जिसके बाद चुनाव तक के लिए यूपी की जेलों में सख्ती की गयी थी।
  • लेकिन चुनाव बीतने के बाद से ही जेलों में एक बार फिर से मोबाइल फोन आदि का इस्तेमाल शुरू हो गया है।
  • गौरतलब है कि, भाजपा ने ही चुनाव में इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था।
  • लेकिन सरकार की मंशा के बाद भी यूपी की जेलों में मोबाइल धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहे हैं।
  • वहीँ मामले की रिपोर्ट गृह विभाग को दी गयी है, लेकिन विभाग किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।
  • सूत्रों की मानें तो गृह विभाग मामले को दबाने में जुटा हुआ है।

अम्बेडकरनगर के बाद वाराणसी जेल से हुई रंगदारी की कॉल(mobile use):

  • यूपी की अम्बेडकरनगर जेल के बाद वाराणसी जेल से रंगदारी को लेकर कॉल की गयी थी।
  • जिसकी रिपोर्ट ATS ने शासन को भेजी थी।
  • इतना ही नहीं अम्बेडकरनगर जेल से आतंकी सैफ भी बड़े हमले की प्लानिंग कर रहा था।
  • ATS द्वारा अम्बेडकरनगर की रिपोर्ट पर भी अभी तक शासन की ओर से कार्रवाई नहीं की गयी।
  • ज्ञात हो कि, सैफ ने हिन्दू युवा वाहिनी के नेता रामबाबू गुप्ता की हत्या की थी।

ये भी पढ़ें: सहारनपुर हिंसा के आरोप में पकड़े गए 8 की होगी रिहाई!

यूपी विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर ने ग्रहण की ‘शपथ’!

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा सरकार के गठन के बाद सोमवार 27 मार्च को विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर ने शपथ ग्रहण कर ली है। उन्हें सूबे के राज्यपाल राम नाईक ने शपथ दिलाई। इस दौरान शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी भी मौजूद रहे थे।

फ़तेह बहादुर सिंह ने ली प्रोटेम स्पीकर की शपथ:

  • यूपी विधानसभा चुनाव के बाद सोमवार को विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर का शपथ ग्रहण समारोह हुआ।
  • जिसके तहत फ़तेह बहादुर सिंह ने प्रोटेम स्पीकर की शपथ ग्रहण कर ली है।
  • शपथ समारोह का आयोजन 3 बजे राजभवन में किया गया था।
  • इसके साथ ही मुख्यमंत्री आदित्यनाथ भी शपथ ग्रहण कार्यक्रम में मौजूद रहे थे।

योगी की कैबिनेट: 22 कैबिनेट और 24 राज्य मंत्री!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2017 में सूबे की जनता ने प्रचंड बहुमत के साथ भारतीय जनता पार्टी को कुल 403 में से 325 सीटों का बहुमत दिया था। जिसके बाद शनिवार 18 मार्च को भाजपा ने योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था। वहीँ रविवार को शपथ ग्रहण समारोह से पहले योगी के कैबिनेट की सूची राजभवन पहुंची थी।

ये हैं भाजपा सरकार के कैबिनेट मंत्री:

भाजपा के कैबिनेट मंत्री:

  • सूर्य प्रताप शाही,
  • सुरेश खन्ना,
  • स्वामी प्रसाद मौर्य,
  • सतीश महाना,
  • राजेश अग्रवाल,
  • रीता बहुगुणा जोशी,
  • दारा सिंह चौहान,
  • धरमपाल सिंह,
  • एसपी सिंह बघेल,
  • सत्यदेव पचौरी,
  • रमापति शास्त्री,
  • जयप्रकाश सिंह,
  • ओमप्रकाश राजभर,
  • ब्रजेश पाठक,
  • लक्ष्मीनारायण चौधरी,
  • पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान,
  • श्रीकांत शर्मा,
  • राजेन्द्र प्रताप सिंह,
  • सिद्धार्थनाथ सिंह,
  • आशुतोष टंडन,
  • नन्द कुमार गुप्ता नंदी,
  • मुकुट बिहारी वर्मा,

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार):

  • अनुपमा जायसवाल,
  • सुरेश राणा,
  • रमापति शास्त्री,
  • जयप्रकाश सिंह,
  • ओमप्रकाश राजभर,
  • उपेन्द्र तिवारी,
  • महेंद्र प्रताप सिंह,
  • स्वतंत्र देव सिंह,
  • भूपेंद्र सिंह चौधरी,
  • धर्म सिंह सैनी,
  • अनिल राजभर,

राज्य मंत्री:

  • गुलाबो देवी,
  • जय प्रकाश निषाद,
  • अर्चना पाण्डेय,
  • जय कुमार सिंह,
  • अतुल गर्ग,
  • रणवेंद्र प्रताप सिंह,
  • नीलकंठ तिवारी,
  • मोहसिन रज़ा,
  • गिरीश यादव,
  • बलदेव ओलख,
  • मन्नू कोरी,
  • संदीप सिंह,
  • सुरेश पासी।

ये भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में लखनऊ से इनको मिली जगह!

योगी आदित्यनाथ बने उत्तर प्रदेश के 21वें मुख्यमंत्री!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में 325 सीटों का प्रचंड बहुमत पाने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार 18 मार्च को मुख्यमंत्री के नाम के लिए योगी आदित्यनाथ की घोषणा की थी। जिसके बाद रविवार 19 मार्च को योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के लिए कार्यक्रम स्थल कांशीराम स्मृति उपवन में पहुँचे थे।

योगी आदित्यनाथ ने ली यूपी के CM पद की शपथ:

  • भाजपा नेता योगी आदित्यनाथ ने रविवार को स्मृति उपवन पहुंचे थे।
  • जहाँ उन्होंने उत्तर प्रदेश के 21वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।
  • शपथ समारोह शुरू होने के बाद योगी आदित्यनाथ ने सबसे पहले शपथ ग्रहण की।
  • जिसके बाद भाजपा सरकार के कैबिनेट मंत्रियों को शपथ दिलाई गयी।

ये होंगे योगी आदित्यनाथ के सिपहसालार:

भाजपा के कैबिनेट मंत्री:

  • मुकुट बिहारी वर्मा,
  • नन्द कुमार गुप्ता नंदी,
  • आशुतोष टंडन,
  • सिद्धार्थनाथ सिंह,
  • राजेन्द्र प्रताप सिंह,
  • श्रीकांत शर्मा,
  • पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान,
  • लक्ष्मीनारायण चौधरी,
  • ब्रजेश पाठक,
  • ओमप्रकाश राजभर,
  • जयप्रकाश सिंह,
  • रमापति शास्त्री,
  • सत्यदेव पचौरी,
  • एसपी सिंह बघेल,
  • धरमपाल सिंह,
  • दारा सिंह चौहान,
  • रीता बहुगुणा जोशी,
  • राजेश अग्रवाल,
  • सतीश महाना,
  • स्वामी प्रसाद मौर्य,
  • सुरेश खन्ना,
  • सूर्य प्रताप शाही,
  • राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार):

  • अनुपमा जायसवाल,
  • सुरेश राणा,
  • रमापति शास्त्री,
  • जयप्रकाश सिंह,
  • ओमप्रकाश राजभर,
  • उपेन्द्र तिवारी,
  • महेंद्र प्रताप सिंह,
  • स्वतंत्र देव सिंह,
  • भूपेंद्र सिंह चौधरी,
  • धर्म सिंह सैनी,
  • अनिल राजभर,
  • राज्य मंत्री:

  • गुलाबो देवी,
  • जय प्रकाश निषाद,
  • अर्चना पाण्डेय,
  • जय कुमार सिंह,
  • अतुल गर्ग,
  • रणवेंद्र प्रताप सिंह,
  • नीलकंठ तिवारी,
  • मोहसिन रज़ा,
  • गिरीश यादव,
  • बलदेव ओलख,
  • मन्नू कोरी,
  • संदीप सिंह,
  • सुरेश पासी।

प्रधानमंत्री मोदी ने यूपी भाजपा के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में की शिरकत!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार 19 मार्च को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के दौरे पर थे। जिसके तहत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लखनऊ पहुँच चुके।

PM मोदी LIVE:

शपथ ग्रहण समारोह कार्यक्रम में पहुंचे पीएम मोदी:

  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार 19 मार्च को सूबे की राजधानी लखनऊ के दौरे पर थे।
  • पीएम मोदी रविवार को भाजपा की नव-निर्वाचित सरकार के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में पहुंचे हैं।
  • जिसके तहत पीएम मोदी लखनऊ स्थित स्मृति उपवन कार्यक्रम स्थल पहुँच चुके हैं।
  • अब से थोड़ी देर में पीएम मोदी कार्यक्रम को संबोधित करेंगे।

योगी आदित्यनाथ ने किया पीएम मोदी का स्वागत:

  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने के लिए लखनऊ पहुंचे।
  • जहाँ पीएम मोदी का स्वागत योगी आदित्यनाथ ने किया।
  • साथ ही राज्यपाल राम नाईक भी एयरपोर्ट पर मौजूद रहे।
  • इसके अलावा मुख्य सचिव राहुल भटनागर, एसएसपी मंजिल सैनी भी मौजूद रही थीं।

योगी आदित्यनाथ ने यूपी के CM पद की शपथ ली!

शनिवार 18 मार्च को भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री पद के लिए गोरक्षधाम मंदिर के महंत और गोरखपुर से भाजपा के सांसद योगी आदित्यनाथ को मनोनीत किया है। जिसके बाद शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन रविवार 19 मार्च को किया गया था।

शपथ समारोह शुरू:

  • राज्यपाल राम नाईक ने शपथ समारोह शुरू होने की घोषणा की।
  • जिसके बाद योगी आदित्यनाथ ने सबसे पहले मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।
  • योगी के बाद केशव प्रसाद मौर्य ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली।
  • केशव मौर्य के बाद दिनेश शर्मा ने भी डिप्टी सीएम पद की शपथ ली।
  • दिनेश शर्मा के बाद सूर्य प्रताप शाही ने शपथ ग्रहण की।
  • सूर्य प्रताप शाही ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।
  • सुरेश खन्ना ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।
  • स्वामी प्रसाद मौर्य ने कैबिनेट मंत्री के रूप ली शपथ।
  • सतीश महाना ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लिया।
  • राजेश अग्रवाल ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।
  • रीता बहुगुणा जोशी ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • दारा सिंह चौहान ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लिया
  • धरमपाल सिंह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • एसपी सिंह बघेल ने ली कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ।
  • सत्यदेव पचौरी ने ली मंत्री पद की शपथ।
  • रमापति शास्त्री ने मंत्रीपद की ली शपथ।
  • जयप्रकाश सिंह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • ओमप्रकाश राजभर ने मंत्रीपद की शपथ ली।
  • ब्रजेश पाठक ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण किया।
  • लक्ष्मीनारायण चौधरी ने कैबिनेट मंत्री के रूप में लिया शपथ।
  • पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान ने मंत्रीपद की शपथ ली।
  • श्रीकांत शर्मा ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण किया।
  • राजेन्द्र प्रताप सिंह और सिद्धार्थनाथ सिंह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • आशुतोष टंडन और नन्द कुमार नंदी ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • अनुपमा जायसवाल ने राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • सुरेश राणा ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • रमापति शास्त्री ने मंत्रीपद की ली शपथ।
  • जयप्रकाश सिंह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • ओमप्रकाश राजभर ने मंत्रीपद की शपथ ली।
  • ब्रजेश पाठक ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण किया।
  • लक्ष्मीनारायण चौधरी ने कैबिनेट मंत्री के रूप में लिया शपथ।
  • पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान ने मंत्रीपद की शपथ ली।
  • श्रीकांत शर्मा ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण किया।
  • राजेन्द्र प्रताप सिंह और सिद्धार्थनाथ सिंह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ।
  • अनुपमा जायसवाल ने राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • सुरेश राणा ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • उपेन्द्र तिवारी ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • महेंद्र प्रताप सिंह ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • स्वतंत्र देव सिंह ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • भूपेंद्र सिंह चौधरी ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • धर्म सिंह सैनी ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • अनिल राजभर ने राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
  • गुलाबो देवी ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • जय प्रकाश निषाद ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • अर्चना पाण्डेय ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • जय कुमार सिंह ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • अतुल गर्ग ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • रणवेंद्र प्रताप सिंह ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • नीलकंठ तिवारी ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • मोहसिन रज़ा ने राज्य मंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • गिरीश यादव ने राज्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • बलदेव ओलख ने राज्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • मन्नू कोरी ने राज्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • संदीप सिंह ने राज्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ली।
  • सुरेश पासी ने राज्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ली।

अखिलेश यादव पहुंचे स्मृति उपवन:

  • सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी शपथ ग्रहण कार्यक्रम में पहुँच चुके हैं।
  • जहाँ उन्होंने गर्मजोशी से भाजपा नेताओं से मुलाकात की थी।

योगी आदित्यनाथ VVIP गेस्ट हाउस से रवाना:

  • यूपी के नए मुख्यमंत्री शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए VVIP गेस्ट हाउस निकल चुके हैं।
  • जिसके बाद योगी आदित्यनाथ गेस्ट हाउस से निकलकर अमौसी एयरपोर्ट पहुँच चुके हैं।
  • गौरतलब है कि, योगी आदित्यनाथ पीएम मोदी को रिसीव करने एयरपोर्ट पहुंचे हैं।

अन्य राज्यों से भी पहुंचे भाजपा नेता:

  • सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव पहुंचे
  • मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पहुंचे
  • असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनवाल भी कार्यक्रम में पहुंचे
  • छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह भी पहुंचे
  • उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी लखनऊ पहुंचे
  • गोवा के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर भी इस शपथ समारोह में शामिल होने पहुंच चुके हैं।
  • राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने पहुंच चुकी हैं।
  • महाराष्ट्र के सीएम देवेन्‍द्र फड़णवीस भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे।
  • शपथ ग्रहण स्थल स्मृति उपवन में महंत दिव्यागिरि भी पहुंच चुकी हैं।
  • सांसद साक्षी महाराज शपथ ग्रहण स्थल स्मृति उपवन पहुंचे चुके हैं।
  • झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास भी लखनऊ एयरपोर्ट पर पहुंच चुके हैं।
  • गुजरात के सीएम विजय रूपाणी भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंने पहुंच चुके हैं।

भाजपा नेताओं के पहुँचने का सिलसिला हुआ शुरू:

  • लखनऊ स्थित स्मृति उपवन में भाजपा सरकार का शपथ ग्रहण समारोह रखा गया है।
  • जिसके तहत कार्यक्रम स्थल पर भाजपा नेताओं के आने का सिलसिला शुरू हो गया है।
  • भाजपा नेता स्वतंत्र देव सिंह, अरुण कुमार सिंह और भूपेन्द्र यादव स्मृति उपवन पहुँच चुके हैं।

स्मृति उपवन में किया गया है आयोजन:

  • भारतीय जनता पार्टी की नव-निर्वाचित सरकार का शपथ ग्रहण समारोह रविवार 19 मार्च को आयोजित किया गया है।
  • शपथ ग्रहण समारोह का कार्यक्रम राजधानी लखनऊ स्थित स्मृति उपवन में आयोजित किया गया है।
  • साथ ही ऐसा माना जा रहा है कि, समारोह में करीब 3 लाख लोग शिरकत कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री बनने के बाद सूबे की जनता को संबोधित करेंगे ‘योगी आदित्यनाथ’!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को सूबे की जनता ने प्रचंड बहुमत दिया था। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार 18 मार्च को योगी आदित्यनाथ को सूबे का नया मुख्यमंत्री भी घोषित कर दिया था।

योगी आदित्यनाथ की प्रेस कांफ्रेंस:

  • भाजपा ने शनिवार को सूबे का नया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को घोषित किया था।
  • गौरतलब है कि, भारतीय जनता पार्टी को यूपी विधानसभा चुनाव में 325 सीटों का प्रचंड बहुमत मिला है।
  • इसी क्रम में भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।
  • प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन मुख्यमंत्री ऑफिस लोक भवन में किया गया है।
  • जहाँ शाम 5 बजे योगी आदित्यनाथ सूबे की जनता को मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार संबोधित करेंगे।

शपथ ग्रहण समारोह:

  • भारतीय जनता पार्टी की नव-निर्वाचित सरकार का शपथ ग्रहण समारोह होना है।
  • जिसके लिए रविवार 19 मार्च का दिन चुना गया है।
  • शपथ ग्रहण समारोह कार्यक्रम का आयोजन स्मृति उपवन में किया गया है।
  • कार्यक्रम की शुरुआत दोपहर 2 बजे से की जाएगी।
  • गौरतलब है कि, योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।
  • जिसके साथ ही केशव प्रसाद मौर्य और लखनऊ के मेयर दिनेश शर्मा डिप्टी CM पद की शपथ लेंगे।

ये भी पढ़ें: भाजपा का जश्न मनाने के लिए ग्रैंड शो आज, कई राज्यों के सीएम कर रहे हैं शिरकत!

उत्तर प्रदेश को कांग्रेस के बस ‘ये सात’ पसंद हैं!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित हो चुके हैं, साथ ही सूबे का नया मुख्यमंत्री भी योगी आदित्यनाथ को चुन लिया गया है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के तहत समाजवादी पार्टी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने गठबंधन किया था।

गठबंधन की घुट्टी गले नहीं उतरी:

  • यूपी विधानसभा चुनाव के परिणाम से लेकर सूबे के मुख्यमंत्री भी घोषित हो चुके हैं।
  • जिसके साथ ही भारतीय जनता पार्टी ने सूबे में 14 साल बाद वापसी की है।
  • ज्ञात हो कि, यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा को 325 सीटों का भारी बहुमत प्राप्त हुआ है।
  • वहीँ यूपी चुनाव के तहत सपा-कांग्रेस में हुए गठबंधन की पूरी तरह से हवा भी निकल गयी।
  • सपा-कांग्रेस गठबंधन को सूबे की जनता ने सिरे से नकार दिया है।

सपा का प्रदर्शन औसत:

  • यूपी विधानसभा चुनाव में सपा-कांग्रेस का संयुक्त प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा।
  • गठबंधन को 403 में से मात्र 54 सीटें ही मिली।
  • साथ ही समाजवादी पार्टी का व्यक्तिगत प्रदर्शन को औसत कहा जा सकता है।
  • सपा को 403 में से व्यक्तिगत तौर पर 47 सीटें मिलीं।
  • कांग्रेस को साल 2012 में 28 सीटें मिली थीं।
  • वहीँ 2017 में कांग्रेस को व्यक्तिगत तौर पर सिर्फ 7 सीटें ही मिली।

यूपी को ये साथ पसंद है:

  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने गठबंधन से पहले ’27 साल यूपी बेहाल’ कहा था।
  • गठबंधन के बाद सपा-कांग्रेस मिलकर नया नारा खोज निकाला था।
  • जिसमें कहा गया था कि, यूपी को ये साथ पसंद है।
  • ज्ञात हो कि, अखिलेश समेत राहुल ने इस गठबंधन को दो युवा नेताओं का गठबंधन बताया था।
  • जिसके ऊपर आधारित यह नारा बनाया गया था।
  • लेकिन परिणामों पर गौर करें तो ये नारा भी पूरी तरह से फ्लॉप निकला है।

कांग्रेस में से यूपी को बस ‘ये’ सात पसंद हैं:

  • सपा-कांग्रेस गठबंधन ने उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए यूपी को ये साथ पसंद है का नारा दिया था।
  • लेकिन चुनाव परिणाम देखें तो पाएंगे की उत्तर प्रदेश को कांग्रेस के बस ‘ये सात’ ही पसंद हैं।
  • राकेश सिंह
  • अदिति सिंह
  • आराधना मिश्र ‘मोना’
  • नरेश सैनी
  • मसूद अख्तर
  • अजय कुमार ‘लल्लू’
  • सोहिल अख्तर अंसारी

कांग्रेस को पुनर्विचार या पुनर्जागरण की जरुरत:

  • यूपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा है।
  • जिसके बाद देश की सबसे पुरानी पार्टी को लोकतंत्र में सड़ रही अपनी जड़ों को अलग करने की जरुरत है।
  • साथ ही कांग्रेस को अब बड़े पैमाने पर अपने स्वमूल्यांकन की जरुरत है।
  • पार्टी किसी भी चुनाव में अब सत्ता के लिए नहीं बल्कि अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष करती नजर आती है।
  • अब तो कांग्रेस को सिर्फ और सिर्फ पुनर्जागरण या स्थिति पर पुनर्विचार ही बचा सकती है।