चुनाव कर्मचारियों को आज लखनऊ में दिया गया पोस्टल बैलेट प्रशिक्षण!

1

उत्तर प्रदेश में चल रहे 2017 विधानसभा चुनाव में 5 चरणों का मतदान शान्तिपूर्वक ढंग के समाप्त हो चूका है. इस चुनाव में अब दो चरण के मतदान होने ही शेष रह गए हैं. ऐसे में चुनाव आयोग भी इस चुनाव किये जाने वाले मतदान को लेकर अपनी कमर कसे हुए है .

loading ...

राजधानी लखनऊ में कर्मचारियों को दिया गया पोस्टल बैलेट प्रशिक्षण-

  • यूपी विधानसभा चुनाव को ज्यादा से ज्यादा सफल बनाने और शत प्रतिशत मतदान करने में जिला स्तर में हर संभव प्रयास किया जा रहा है.
  • इसी प्रयास में चुनाव आयोग और सभी जिलों के चुनाव अधिकारी अपना पूरा जोर लगा रहे हैं.
  • ऐसे में आज प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित विधानसभा चुनाव 2017 के मीडिया एवं संचार केंद्र में चुनाव कर्मचारियों को पोस्टल बैलेट का प्रशिक्षण दिया गया.
  • बता दें कि पोस्टल बैलेट के माध्यम से ड्यूटी करने वाले पुलिस कर्मी, होमगार्ड, ड्राइवर जैसे सरकारी कर्मचारी भी अपने मतों का प्रयोग कर सकेंगे.
  • बता दें कि मतदान के लिए इन कर्मचारियों के एक फॉर्म दिया जायेगा.
  • जिसमे भर कर ये कर्मचारी बैलेट बॉक्स में दाल देंगे.
  • वोटिंग के बाद बैलेट बॉक्स को सील कर सुरक्षित रख लिया जायेगा.
  • जिसके बाद पोस्टल बैलेट को भी evm मशीन के साथ ही काउंटिंग के दिन खोला जाएगा.
1

यह है 2012-2017 के बीच चारों चरणों में हुए मतदान का गणित!

उत्तर प्रदेश में चल रहे 2017 विधानसभा चुनाव में अब तक पांच चरणों का मतदान पूरा किया जा चूका है. पांचवें चरण का मतदान आज सोमवार 27 फ़रवरी सुबह 7 बजे से किया जा रहा है. जो की शाम 5 बजे तक चला.

पांच चरणों में अब तक हुआ 313 विधानसभा सीटों पर मतदान-

  • यूपी में चल रहे 2017 विधानसभा चुनाव में अब तक चार चरणों को मतदान शांतिपूर्वक ढंग से पूरा किया जा चूका है.
  • विधानसभा चुनाव के पांच चरणों में अब तक सूबे के 61 जिलों की 313 विधानसभा सीटों पर मतदान किया जा चूका है.
  • जिसमे की सर्वाधिक 65.50 प्रतिशत मतदान दूसरे चरण में किया गया.
  • जबकि सबसे कम मतदान 57.36% प्रतिशत पांचवें चरण में किया गया.
  • बता दें कि साल 2012 की तुलना में साल 2017 में मतदान का प्रतिशत ज्यादा देखने में लिया है.

अगले पेज पर देखिये मतदान प्रतिशत के पूरे आंकड़े:

आंकड़ों में देखिये साल 2012-2017 के बीच चारों चरणों में हुए मतदान का गणित-

पहले चरण के मतदान का गणित

first phase polling percentage difference 2012-2017

दूसरे चरण में मतदान का गणित

 second phase polling percentage difference 2012-2017

तीसरे चरण के मतदान का गणित

third phase polling percentage difference 2012-2017

चौथे चरण के मतदान का गणित

fourth phase polling percentage difference 2012-2017

पांचवें चरण के मतदान का गणित

fifth phase polling percentage difference 2012-2017

पांचवें चरण में शाम पांच बजे तक हुआ 57.36% मतदान, देखें 2012 के भी आंकड़े!

1

उत्तर प्रदेश में चल रहे 2017 विधानसभा चुनाव में आज पांचवें चरण का मतदान किया गया। ये मतदान प्रदेश के 11 जिलों की 51 विधानसभा सीटों पर सोमवार सुबह 7 बजे से शुरू हुआ जो की शाम 5:00 बजे तक चला। मतदान के दौरान शाम 5 बजे से पहले से लाइन में खड़े लोगों को 5 बजे के बाद भी अपना कीमती वोट देने का मौका दिया गया।

11 जिलों की 51 सीटों पर किया गया मतदान-

  • पांचवें चरण का ये मतदान प्रदेश के बलरामपुर, गोंडा, फैजाबाद, अम्बेडकर नगर, बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संत कबीरनगर, अमेठी और सुल्तानपुर जिले में किया गया।
  • हालांकि पांचवें चरण का ये मतदान इन 11 जिलों की 52 विधानसभा सीटों पर किया जाना था
  • लेकिन आंबेडकर नगर के आलापुर में सपा प्रत्याशी के अकस्मात निधन के चलते यहाँ मतदान निरस्त कर दिया गया।
  • आंबेडकर नगर की आलापुर विधानसभा सीट पर अब ये मतदान 9 मार्च को किया जायेगा।
  • पांचवें चरण के इस चुनावी महासमर में कुल 607 प्रत्याशी अपनी किस्मत जमाने इस चुनावी मैदान में उतरे।
  • जिनमे 40 महिला प्रत्याशी भी शामिल हैं।
  • पांचवें चरण के मतदान में कुल मतदाताओं की संख्या 1 करोड़ 81 लाख 71 हज़ार आठ सौ छब्बीस है।
  • जिसमे महिला मतदाताओं की संख्या 83 लाख 79 हज़ार सात सौ पैंतालिस है।
  • बता दें कि पांचवें चरण के लिए सबसे ज्यादा मतदाता संत कबीर नगर के मेहदावल से जब कि सबसे कम मतदाता आंबेडकर नगर के टांडा से शामिल रहे।
  • पांचवें चरण के मतदान लिए कुल 12555 मतदान केंद्र बनाए गए।

अगले पेज पर देखिये मतदान प्रतिशत के आंकड़े:

पांचवें चरण में शाम 5 बजे तक हुआ 57.36 प्रतिशत मतदान-

  • पांचवें चरण के मतदान प्रतिशत की अगर बात करें तो शाम 5 बजे तक 57.36 प्रतिशत मतदान हुआ।
  • 5वें चरण के मतदान की तुलना अगर पिछले चार चरणों में किये गए मतदान से की जाए तो पांचवें चरण में अब तक का सबसे कम 57.36 मतदान हुआ है.
  • बता दें कि पहले चरण में 64.21 प्रतिशत ,दूसरे चरण में 65.50 प्रतिशत, तीसरे चरण में 61.16 प्रतिशत और चौथे चरण में 60.37 प्रतिशत मतदान किया गया था।
  • गौरतलब हो की 2017 के पांचवें चरण के मतदान का प्रतिशत 2012 मतदान से भी कम है.

पांचवें चरण के मतदान का कुल प्रतिशत-

fifth phase polling percentage 2017

2012-2017 के बीच हुआ मतदान का अंतर-

fifth phase polling percentage 2017

1

मुलायम सिंह को अखिलेश ने दिया राजनीतिक वनवास-सुनील सिंह

उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में हुआ हाईवोल्टेज परिवार के बिखराब और चुनाव चिन्ह की खिचतान का ड्रामा खत्म नहीं हुआ है। लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह ने मुलायम सिंह के सार्वजनिक मंचों से गायब होने को लेकर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। सुनील सिंह ने आरोप लगाया है कि नेताजी को उन्हीं के करीबियों ने नज़रबंद कर लिया है। साथ ही इशारों में अखिलेश यादव पर इसका आरोप लगाते हुए जमकर वार किया।

अखिलेश ने दिया पिता को राजनीतिक वनवास

  • सुनील सिंह का आरोप है कि 25 साल में पार्टी बनाने वाले नेता जी आज कल नज़रबंद है।
  • उन्होंने कहा कि नेता जी को राजनीतिक वनवास दे दिया गया है।
  • नेताजी शिवपाल और अपर्णा की जनसभा के अलावा कहीं नहीं दिखें।
  • उन्हें उनके पुत्र के द्वारा राजनीतिक वनवास पर भेज दिया गया है।
  • उन्होंने सवाल किया कि क्या वजह है कि नेता जी इस चुनाव में सक्रिय नहीं हैं।

राजनीतिक वनवास छोड़कर मैदान में आये नेताजी

  • सुनील सिंह ने कहा कि नेताजी अपना राजनीतिक वनवास छोड़कर मैदान में आये।
  • उन्होंने कहा कि जनता चाहती है कि नेता जी बाहर आये।
  • सुनील सिंह ने कहा कि नेता जी बहुत परेशान है इस उनका बाहर आना जरूरी है।
  • उन्होंने कहा कि नेता जी लोक दल के रहे है।
  • ऐसे में मैं चाहता हूं कि वह फिर लोक दल के साथ आये और पूरे देश में आगे बढ़ाये।
  • उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह को लोकदल राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद देने को तैयार है।

नवनीत सहगल पर साधा निशाना

  • प्रेसवार्ता के दौरान रघुनन्दन सिंह काका ने नवनीत सहगल पर भी निशाना साधा।
  • उन्होंने कहा कि इस सरकार में एक कोई सहगल है जो प्रेस और टीवी मैनेज करता है।
  • वहीं उन्होंने अखिलेश यादव के लिए कहा कि शायद एक्सप्रेस वे के घोटाले में चुनाव बाद उन्हें जेल भी जाना पड़ जायेगा।

यूपी की 22 करोड़ की आबादी झेलती है ज़लालत: योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में चल रहे चुनावी महासमर में पांचवे चरण का मतदान सोमवार 27 फ़रवरी को किया जाना है. ऐसे में चुनाव प्रचार में तेज़ी से जुटी भारतीय जनता पार्टी के फायर ब्रांड नेता और सांसद योगी आदित्यनाथ आज पांचवें चरण के चुनाव प्रचार के लिए बलरामपुर पहुंचे.जहाँ उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया. अपने संबोधन में महन्त योगी आदित्यनाथ ने विपक्षी दलों सपा,बसपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा.

सपा-बसपा जीतेगी तो कर्बला और कब्रिस्तान ही बनेगें-

  • यूपी में चल रहे 2017 विधानसभा चुनाव में चार चरणों के मतदान पूर्ण हो चुके हैं.
  • जबकि पांचवें चरण के मतदान सोमवार 27 फ़रवरी को किया जायेगा.
  • बता दें कि पांचवें चरण में होने वाले मतदान के प्रचार का आज अंतिम दिन है.
  • ऐसे में बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ पांचवें चरण के प्रचार के लिए आज सूबे के बलरामपुर जनपद पहुंचे.
  • जहाँ उन्होंने चुनाव प्राचर के लिए आयोजित एक जनसभा को संबोधित किया.
  • जनसभा को संबोधित करते हुए महन्त आदित्यनाथ ने सपा बसपा और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला.
  • उन्होंने कहा कि यूपी में सपा-बसपा जीतेगी तो कर्बला और कब्रिस्तान ही बनेगें.
  • योगी ने ये भी कहा कि यूपी की 22 करोड़ की आबादी जलालत झेलती है.
  • जिस धरती ने अटल जी जैसा प्रधानमंत्री और नानाजी देशमुख जैसा समाजसेवक दिया है.
  • वह धरती बदहाली झेल रही है.
  • उन्होंने कहा अखिलेश सरकार ने भेदभाव किया है.
  • सपा ने समाज को जाति और मजहब के नाम पर बांटा है.
  • राहुल पर हमला करते हुए योगी ने ये भी कहा कि राहुल गांधी हार का ठीकरा अपने साथ लेकर चलते है.
  • उन्होंने कहा चुनाव राष्ट्र के निर्माण का महा उत्सव है.
  • विकास देखना है तो मोदी सरकार के कार्य को देखिए.
  • योगी ने कहा कि बीजेपी सरकार आने पर पशु तस्करी रुकेगी और अवैध बूचडखाने बन्द होंगे.
  • राम मंदिर के मुद्दे को उठाते हुए योगी ने कहा भाजपा जीतेगी तो अयोध्या में भव्य राम मन्दिर का निर्माण होग.

यूपी विधान सभा में 62 सालों में यूं बढ़ा मुस्लिम प्रतिनिधियों का कद!

उत्तर प्रदेश चुनाव में कुछ विशेष वर्ग को टिकट मिलने और उनके विधानसभा में पहुंचने पर खास चर्चा रहती है। इन्हीं कुछ एक विशेष वर्ग को राजनीतिक दलों की सत्ता की सीढ़ी चढ़ने और उतरने कारण माना जाता है। वैसे तो उत्तर प्रदेश का वोट कई वर्गों पर बटा हुआ है। लेकिन कुछ खास वर्गों का वोट और प्रत्याशी ही सरकारों को यूपी विधानसभा का रास्ता दिखाता नज़र आता है।

वर्तमान परिदृश्य यह है कि इस समय राजनीतिक दलों में मुस्लिम वर्ग को अपने विश्वास में लेना एक बड़ी चुनौती है। इसी के चलते राजनीतिक दलों ने 2017 यूपी विधानसभा चुनाव में मुस्लिम उम्मीदवारों को काफी टिकट दिए हैं। बसपा ने इस बार करीब 100 मुस्लिम प्रत्याशी घोषित किए हैं। वहीं सपा ने भी 50 से अधिक मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट दिए है। साथ ही कई अन्य राजनीतिक दलों ने मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट दिए हैं।

ऐसा नहीं है कि इस विशेष वर्ग के प्रत्याशियों पर दलों का विश्वास पहली बार जागा है। आजादी के बाद से ही इस वर्ग ने राजनीतिक गलियारों में अपनी स्थिति दर्ज कराई है। राजनीतिक दलों के लिए इस विशेष वर्ग ने 1951, 1957, 1967 में बड़ी भूमिका निभाई है। वहीं इमरजेंसी के बाद विधानसभा में मुस्लिम प्रतिनिधियों का प्रतिनिधित्व काफी तेजी से बढ़ा था। कुछ एक बार छोड़ दें तो इस वर्ग का यूपी विधानसभा में कद काफी बढ़ा है।

कुछ यूं बढ़ा विधानसभा में मुस्लिम प्रतिनिधियों का कद

  • आजादी के बाद मुस्लिम प्रतिनिधित्व 1951 और 1957 में 9 से 10 प्रतिशत के करीब रहा।
  • बीच के कुछ साल छोड़ दें तो इमरजेंसी के बाद मुस्लिम प्रतिनिधित्व का ग्राफ काफी तेजी से बढ़ा।
  • 1977 से 1985 तक यूपी में मुस्लिम प्रतिनिधित्व 11.53 प्रतिशत तक रहा।
  • हालांकि जब बीजेपी हिन्दुत्व के मुद्दे के साथ विधानसभा में 221 सीटों के साथ पहुंची,
  • तो यह आकड़ा अचानक घटकर 4.05 पर सीम गया।
  • हालांकि 2002 में यूपी विधानसभा में मुस्लिम प्रतिनिधित्व का आंकड़ा एक बार फिर 11.66 प्रतिशत के साथ तेजी से बढ़ा।
  • वहीं पिछले विधानसभा चुनाव (2012) यह आकड़ा सबसे शीर्ष पर रहा।
  • 2012 विधानसभा चुनाव में 17.12 प्रतिशत मुस्लिम प्रतिनिधी यूपी विधानसभा में पहुंचा।
  • हालांकि 2017 में यह आकाड़ा कितना घटता या बढ़ता है, यह देखने वाली बात होगी।

UP CEC टी. वेंकटेश की प्रेस कांफ्रेंस के संबोधन की मुख्य बातें!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव का चौथा चरण गुरुवार 23 फरवरी को संपन्न हो चुका है, जिसके तहत 12 जिलों की 53 विधानसभा सीटों की जनता ने 680 प्रत्याशियों के किस्मत का फैसला बक्सों में बंद कर दिया है। शाम 5 बजे से मतदान थमने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी टी. वेंकटेश ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी की प्रेस कांफ्रेंस के संबोधन के मुख्य अंश:

  • उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव का चौथा चरण गुरुवार को संपन्न हो चुका है।
  • जिसमें उन्होंने जानकारी दी कि, उड़नदस्ता, पुलिस टीम एवं आयकर विभाग की कार्रवाई में आज 167.66 लाख,
  • इसी में उन्होंने आगे जोड़ा कि, अब तक एक अरब 13 करोड़ रूपये सीज किये गए।
  • टी. वेंकटेश ने आगे बताया कि, सरकारी एवं निजी सम्पति से 2311754 वॉल राइटिंग, पोस्टर,
  • इसी में उन्होंने आगे जोड़ा कि, बैनर्स आदि विरूपित किये गए।
  • साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि, करीब 835 FIR दर्ज की गयीं
  • इसके अलावा लाल, नीली बत्ती, झण्डे एवं लाउडस्पीकर के विरूद्ध अभियान चलाया गया।
  • जिसके अन्तर्गत 38802 प्रकरणों में कार्रवाई हुई, 1711 लोगों के विरूद्ध FIR की गयी।
  • 34 करोड़ रूपये मूल्य की 19.89 लाख लीटर शराब जब्त की गयी।
  • साथ ही करीब 866533 लाइसेन्सी हथियार जमा, 942 असलहों के लाइसेन्स निरस्त किये गए।
  • IPC की धारा 107 एवं 116 के तहत कुल 35.80 लाख व्यक्ति पाबन्द किये गये।
  • 21698 व्यक्तियों को गैर जमानती वारंट जारी 20939 को तामील कराया गया।

चुनाव के बीच इन 8 बड़े नेताओं को अखिलेश ने दिखाया बाहर का रास्ता!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है और इसके तीन चरण भी पूरे हो गए है। चुनाव आते ही पार्टी नेताओं के दल बदलने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। सभी पार्टियों से कई बड़ें नेताओं ने दल बदल लिए है और सिलसिला लगातार जारी है। इस बीच समाजवादी पार्टी ने भी अपने 8 बड़े नेताओं को पार्टी से निकाल दिया है।

बगावत करने वाले नेताओं पर हुई कार्यवाई :

  • समाजवादी पार्टी ने आज अपने 8 बड़े नेताओं को चुनाव खत्म होने के पहले ही बाहर कर दिया है।
  • इनमें कुशीनगर से पूर्व विधायक डा. केपी राय को 6 साल के लिए निकाला गया है।
  • साथ ही विजय प्रताप यादव, अवधेश राय, सुरेन्द्र राय को भी निकाल दिया गया है।
  • इनके अलावा घोसी के संजय, विजय यादव को भी 6 साल के लिए निकाला गया है।
  • देवरिया से सपा नेता दयाशंकर यादव को भी पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया है।
  • आपको बता दें कि सभी नेता 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित किये गए है।
  • यह पहली बार नहीं है जब सपा ने नेतओं पर कार्यवाई की हो।
  • पहले भी कई बार कई अन्य नेताओं को भी पार्टी से बाहर किया गया है।
  • अब देखना दिलचस्प होगा कि इस घटना का सपा पर कैसा प्रभाव पड़ता है।

शाम पांच बजे तक हुआ 61.16% मतदान, देखें 2012 के भी आंकड़े!

1

पश्चिम उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण के 12 जिलों की 69 विधानसभा सीटों पर सुबह से ही हो रहा मतदान शाम 5:00 बजे समाप्त हो गया।

  • तीसरे चरण में शाम पांच बजे तक के मतदान प्रतिशत की अगर बात करें तो 61.16 प्रतिशत मतदान हुआ।
  • पहले चरण में पश्चिमी यूपी के 15 जिलों की 73 विधान सभा सीटों पर हुए मतदान प्रतिशत की अगर बात करें तो शाम पांच बजे तक 64.21 प्रतिशत मतदान हुआ था।
  • जबकि दूसरे चरण में शाम पांच बजे तक 65.50 प्रतिशत मतदान किया गया था।
  • पहले और दूसरे चरण के मतदान की अपेक्षा तीसरे चरण के मतदान में कम मतदाताओ ने मतदान में हिस्सा लिया।
  • हालांकि शुरूआती दौड़ में मतदान का प्रतिशत कम रहा लेकिन जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया वैसे-वैसे मतदान का प्रतिशत लगातार बढ़ता गया।

अगले पेज पर देखिये मतदान प्रतिशत के आंकड़े:

12 जिलों में 69 सीट पर हो रहा मतदान

  • बता दें यूपी के विधानसभा चुनाव में तीसरे चरण का मतदान रविवार को शाम 5 बजे संपन्न हो गया।
  • इसके लिए प्रशासन ने कमर कस रखी थी।
  • तीसरे चरण का मतदान यूपी के 12 जिलों में 69 सीट पर हुआ है।
  • इस बार दिव्यांग मतदाता और बुजुर्ग मतदाताओं का भी खास ध्यान रखा गया है।
  • इस बार एनसीसी ओर स्पोर्टस गाइड के छात्रों की सहायता ली गई है।
  • यह छात्र जो बुर्जग हैं उनको ई-रिक्शा के द्वारा बूथ स्थल तक पहुचाएंगे।
  • खासतौर पर प्राइवेट अस्पतालों को भी आदेश दिए गए हैं कि किसी को कोई परेशानी हो तो उनका कैशलेश उपचार करने में सहायता प्रदान करें।
  • मतदान के लिए प्रशासन ने सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किये हैं।

ये रहे 2017 और 2012 के मतदान के सम्मिलित आंकड़े-

percentage phase 3 election copy

1