4  Dec  2016

जानिये आदर्श ग्राम योजना में कौन फेल और कौन हुआ पास!

जानिये आदर्श ग्राम योजना में कौन फेल और कौन हुआ पास!

ये रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर के द्वारा गोद लिया बरौलिया गाँव। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने यह गाँव 19 सितम्बर 2015 को गोद लिया था। क्या हैं इस गाँव के हाल आइये हम बताते हैं आपको-

Village barauliya

  • रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर अपने द्वारा गोद लिये गये गाँव में अभी तक नहीं आये है।
  • बरौलिया गाँव के कुछ ही लोंगों को छोड़कर बाकि किसी को नहीं पता की किस मंत्री ने उनके गाँव को गोद लिया है
  • बरौलिया गाँव में अस्पताल को लेकर किसी भी तरह की कोई भी सुविधा है अस्पताल भी गाँव से 15 किलोमीटर की दूरी पर बने हुए हैं।
  • बरौलिया गाँव में 1046 परिवार रहते हैं इन 1046 परिवारों में से सिर्फ 50 परिवारों में ही शौचालय बने हुए हैं। बाकी सभी परिवार के लोग खुले में शौच जाने को मजबूर हैं।
  • बरौलिया गाँव में स्वच्छता अभियान का खुलकर मजाक उड़ाया जा रहा है इस गाँव में हर चार कदम पर कूड़े का ढेर लगा हुआ है।
  • बरौलिया गाँव में सफाई के लिये एक भी सफाई कर्मचारी नहीं है।
  • बरौलिया गाँव की 4800 है इस 4800 आबादी वाले गाँव में 500 लोंगों ने ही जनधन योजना में अपना खाता खुलवाया है।
  • बरौलिया गाँव में राशन कार्ड धारकों को पिछले 20 महीने से राशन नहीं मिला है यहाँ पर राशन बाटने का कोटा पिछले 20 महीने से सस्पेंड पड़ा हुआ है।
  • बरौलिया गाँव में 2-2 फीट के गढ्ढे पड़े हुए हैं गाँव में किसी भी तरह का कोई भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट का जरिया नहीं है।
  • बरौलिया गाँव के प्रधान ने कहा है कि हमें उम्मीद है की रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर कभी न कभी हमारे गाँव को देखने जरुर आयेंगें।

बरौलिया गाँव के लोंगों ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर के द्वारा किये जा रहे विकास कार्य को 10/2 नंबर दिये हैं।

वित्तमंत्री अरुण जेटली के गाँव बरौलिया में हुए विकास के कार्यों को को गाँव वालों ने दिये हैं कितने नंबर ये जानने के लिये यहाँ क्लिक करें 

TRENDING NEWS & VIDEOS

14000 करोड़ के कारोबारी महेश शाह को निजी टीवी चैनल के दफ्तर से गिरफ्तार किया गया.महेश शाह अपनी…

पीएम नरेन्द्र मोदी के 500 और 1000 के नोटों को बंद करने के फैसले के बाद से…

हाल ही में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का किडनी ट्रांसप्लांट ऑप्रेशन होना है जिसके लिए वे भले…

भारत को आजाद करवाने के लिए हमारी स्वंत्रता सेनानियों ने अपना बलिदान दिया है। भगत सिंह से…

About us | Contact us | Privacy Policy | Terms & Conditions