बिहार में शराबबंदी से 60% तक सड़क दुर्घटनाओं में आई गिरावट!

 April 21, 2017 4:28 pm
 165
 0
It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

बिहार सरकार द्वारा बीते समय में एक नियम लागू किया गया था. इस नियम के अंतर्गत पूरे बिहार राज्य में शराब की बिक्री पर रोक लगा दी गयी थी. जिसके बाद शराब पर लगे इस प्रतिबंध के नतीजे अब सामने आने लगे हैं. इस राज्य में किये गए एक सर्वे के अनुसार यहाँ पर इस नियम को लागू करने के बाद से ही सड़क हादसों में कमी आई है. जिसके बाद सरकार द्वारा लगाया गया यह प्रतिबंध अब सफल साबित हो रहा है.

एक साल के भीतर हुआ यह बड़ा बदलाव :

  • बिहार की सरकार द्वारा बीते समय में एक नियम लागू किया गया था.
  • इस नियम के अनुसार बिहार में शराब के बिकने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया था.
  • जिसके बाद से इस राज्य में किसी भी जगह पर शराब नहीं मिलती हैं.
  • बता दें कि सरकार द्वारा लगाए गए इस प्रतिबंध का अब असर दिखने लगा है.
  • जिसके तहत इस राज्य में किये गए एक सर्वे के अनुसार एक साल के भीतर ही एक बड़ा बदलाव देखने को मिला है.
  • आपको बता दें कि इस राज्य में एक साल के भीतर सड़क दुर्घटनाओं में एक बड़ी गिरावट आई है.
  • गौरतलब है कि साल 2015 में हादसों का आंकडा 867 था जो साल 2016 में 326 हो गया है.
  • यदि प्रतिशत में बात की जाए तो इस आंकड़े में 2016 में करीब 60 प्रतिशत तक गिरावट आयी है.
  • आपको बता दें कि बिहार सरकार द्वारा वर्ष 2015 में राज्य में पूर्णता शराब बंदी कर दी गयी थी.
  • साथ ही इस नियम को ना मानने वाले लोगों को 10,000 रूपये का जुर्माना भरना पड़ता है.
  • यही नहीं यदि कोई व्यक्ति एक से ज़्यादा बार इस नियम का उल्लंघन करता नज़र आता है तो उसे 15,000 रूपये का जुर्माना भरना पड़ता है.
  • जिसके चलते अब इस राज्य में शराब खरीदने और पीने वालों में भी गिरावट आयी है.
  • दरअसल सरकार द्वारा यह नियम इस राज्य में आये दिन होने वाले सड़क हादसों,
  • साथ ही कच्ची शराब पीने वाले लोगों की मौत के बाद बनाए गए थे.

Vasundhra

About Vasundhra

Reporter at uttarpradesh.org, #News Junkie #Encourager not a Critique #Admirer of Nature
WHAT IS YOUR REACTION?

    LEAVE A COMMENT

    Your email address will not be published. Required fields are marked *