केजरीवाल के भष्ट्राचार से लड़ाई की खुल गई पोल

सीबीआई ने नहरपुर में अवैध निर्माण की इजाजत देने के लिए तीन व्यक्तियों से 50,000 रुपए की रिश्वत लेने के आरोप में केजरीवाल सरकार के एसडीएम राहुल अग्रवाल को गिरफ्तार किया है।

सीबीआई ने एसडीएम राहुल अग्रवाल के अलावा दलाल संदीप, बिल्डर विजेंद्र और अश्विनी यादव को भी गिरफ्तार किया।

पीतमपुरा स्थित आवास पर छापेमारी के दौरान वहां एजेंसी को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी जब एसडीएम अग्रवाल की पत्नी ने फ्लैट में घुसने से रोका। राहुल अग्रवाल की पत्नी ने हीरे जड़ित गहने और अन्य कीमती जेवरात छत पर पानी के टैंक के पास फेंक दिए थे जिसे सीबीआई टीम ने बरामद कर लिया।

इस छापेमारी में पांच लाख के नकदी के अलावा कुछ कागजात भी मिले जिनके द्वारा एसडीएम पर लगे आरोपों को और अधिक बल मिला है।

ऐसे होती थी अवैध वसूली:

सीबीआई ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि आरोपी अधिकारी राहुल अग्रवाल निजी इमारतों के मालिकों और सरकारी जमीन पर कब्जा या अवैध निर्माण करने वालों को नोटिस जारी किया करता था और दलाल के माध्यम से पैसे वसूल कर मामले का निपटारा करता था। इस मामले में अधिकारी ने दलाल संदीप के साथ काम करने की बात स्वीकार की है। इस दौरान छापेमारी में संदीप के घर से डेढ़ लाख नकदी जब्त किया गया जबकि कुछ सरकारी फाइल्स भी बरामद की गईं। 

इससे पहले सीबीआई ने केजरीवाल सरकार के अधिकारी राहुल अग्रवाल को 50,000 रूपये रिश्वत के रूप में लेते हुए गिरफ्तार किया था। आरोपियों की पेशी रोहिणी कोर्ट में शुक्रवार को हुई।