पोखरण मामले पर सदन में गुस्साए अटल बिहारी वाजपेयी!

बेहतरीन वक्ताओं की बात ही शुरू होती है अटल बिहारी वाजपेयी से, अपने गंभीर भाषा शैली और ठहराव के लिए जाने जाने वाले वाजपेयी जब जब सदन में बोले तब तब लोगों के दिल जीत लिए। जब विपक्ष ने पोखरण-2 का विरोध किया तो अटल बिहारी वाजपेयी ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि युद्ध की तैयारी तब नहीं करते जब युद्ध की स्थिति उत्पन्न हो जाए, हमारी तैयारी ऐसी होनी चाहिए कि ऐसी स्थिति उत्पन्न ही ना हो।

इसके अलावां भी ऐसे बहुत से मौके आये जब उन्होंने संसद में सभी के दिल जीत लिए, वाजपेयी उन नेताओं में गिने जाते हैं जो विपक्ष के भी प्यारे थे। लोग अक्सर पार्टी को सीधे हमले करते थे पर अटल जी को उससे अलग ही रख करते थे।

अगले पेज पर: प्रमोद महाजन द्वारा ‘भारतीय लोकतंत्र’ की अनूठी परिभाषा आज भी लोगों को काफी पसंद आती है।